શબ્દોના પ્રેમમાં પડવાનો પ્રયાસ કરું છું.....

વર્ષના છેલ્લા દિવસે સમર્પણ કરવું છે, મારા શબ્દોનું.....
મારા બધા શબ્દો મારા mb પરિવારને સમર્પિત કરું છું, અઘરા, સહેલા, અર્થસભર, નિરર્થક જેવા પણ હોય બધા તમારા. કારણ કે લખતા જ તમે શીખવ્યું છે, લખી એ જ શકે જેને લાગણી મળી હોય ને મને તો લાગણીસભર આખો પરિવાર મળ્યો, ડીઝીટલ દુનિયામાં પણ આટલા નિખાલસ સંબંધો મળવા એ મારા અહોભાગ્ય છે, આજે તો નામ સહિત લખીશ....
સખી,જીગરી, કમલેશ,અભી, મયલું, રોહિત, જાગૃત, ભાવેશ બંને, કેતન, jd, ટિયા, હરિ, સીમરન, પિયુ, જીગુ, અમિતા, તન્વી.....હજુ પણ એવા કેટલાય જેના નામ બાકી રહી ગયા.. ખૂબ ખૂબ આભાર મારા જીવનમાં વર્ષો સુધી ચાલે એવી યાદો આપવા માટે, આભાર કે તમે બધા આવ્યા તેથી હું લખી શકું છું, હું શબ્દો માણી શકું છું ને અનુભવી શકું છું....

Read More

સારા વક્તા બનતા પહેલા સારા શ્રોતા બનવું જરૂરી છે, જીભ એટલી જ મજબૂત રાખવી જેટલા કાન સબળ હોય...

અમુકો વાતો શબ્દોનું સ્વરૂપ લઈ નથી શકતી,
દિલની કબરમાં કોઈક ખૂણે દફન થઈ નથી શકતી,
અંદર રહીને પણ બરડ બનાવી દે જે લાગણીઓને,
હોય ભીતર વાવાઝોડા રૂપે છતાં આંખોથી વહી નથી શકતી.

Read More

कलम सुन पड़ जाए तो आँखों को जगा लीजिएगा,
किसीको पढ़के भी खुद से रूबरू हो लीजिएगा ।।

तो आप लेखक बनना चाहते हैं

   चार्ल्स बुकोवस्की »

मत लिखो —

अगर फूट के ना निकले
बिना किसी वजह के
मत लिखो।

अगर बिना पूछे-बताए ना बरस पड़े,
तुम्हारे दिल और दिमाग़
और जुबाँ और पेट से
मत लिखो।

अगर घण्टों बैठना पड़े
अपने कम्प्यूटर को ताकते
या टाइपराइटर पर बोझ बने हुए
खोजते कमीने शब्दों को
मत लिखो।

अगर पैसे के लिए
या शोहरत के लिए लिख रहे हो
मत लिखो।

अगर लिख रहे हो
कि ये रास्ता है
किसी औरत को बिस्तर तक लाने का
तो मत लिखो।

अगर बैठ के तुम्हें
बार-बार करने पड़ते हैं सुधार
जाने दो।

अगर लिखने की बात सोचते ही
होने लगता है तनाव
छोड़ दो।

अगर किसी और की तरह
लिखने की फ़िराक़ में हो
तो भूल ही जाओ
अगर वक़्त लगता है
कि चिंघाड़े तुम्हारी अपनी आवाज़
तो उसे वक़्त दो
पर ना चिंघाड़े ग़र फिर भी
तो सामान बाँध लो।

अगर पहले पढ़ के सुनाना पड़ता है
अपनी बीवी या प्रेमिका या प्रेमी
या माँ-बाप या अजनबी आलोचक को
तो तुम कच्चे हो अभी।

अनगिनत लेखकों से मत बनो
उन हज़ारों की तरह
जो कहते हैं खुद को ‘लेखक’
उदास और खोखले और नक्शेबाज़
स्व-मैथुन के मारे हुए।
दुनिया भर की लाइब्रेरियां
त्रस्त हो चुकी हैं
तुम्हारी क़ौम से
मत बढ़ाओ इसे।

दुहाई है, मत बढ़ाओ।
जब तक तुम्हारी आत्मा की ज़मीन से
लम्बी-दूरी के मारक रॉकेट जैसे
नहीं निकलते लफ़्ज़,
जब तक चुप रहना
तुम्हें पूरे चाँद की रात के भेड़िए-सा
नहीं कर देता पागल या हत्यारा,
जब तक कि तुम्हारी नाभि का सूरज
तुम्हारे कमरे में आग नहीं लगा देता
मत मत मत लिखो।

क्यूंकि जब वक़्त आएगा
और तुम्हें मिला होगा वो वरदान
तुम लिखोगे और लिखते रहोगे
जब तक भस्म नहीं हो जाते
तुम या यह हवस।

कोई और तरीका नहीं है
कोई और तरीका नहीं था कभी।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : विवेक मिश्र

Read More