कपड़ों से पदा होता हैं साहब, हिफाजत तो निगाहों से होती हैं...।।

इश्क हो रहा है तुमसे क्या किया जाये, रोंके अपने आप को या होने दिया जाये...।

इसलिए छुपा रखा हैं मैंने तेरा नाम सबसे अगर नहीं निभा पाये इश्क तू, तो मेरे दोस्तों मैं बदनाम ना हो..।

किस के लिये देखती हो आईना, तुम तो खुद से भी खूबसूरत हो..।।

अगर किसी दिन तुम्हें रोना आये तो कोल जरूर कर लेना,हँसाने की गारंटी तो नहीं लेता पर तेरे साथ रोऊंगा जरूर..।

Read More

तुम मोहब्बत की बात करते हो साहब,
लोग तो हमारी नफरत पे भी मरते हैं...।

अगर तु जिद होती तो मुठ्ठी मे केद कर लेते,
मगर तू इशक था तूझे आजाद कर दिया..।।

तुम बात करते हो शराब की, मुझे तो किसी की आंखों ने बबाँद किया हैं...!!!

good morning
Bhachau

काश वो मुझे यूँ चाहती...
जैसे लोग सुकून चाहते हैं....