Hey, I am on Matrubharti!

प्रेम
में हक के लिए लडना
प्रेम नहीं
संघर्ष कहलाता है।
भावनायें
समर्पण की हो तो
ईश्वर पत्थर की मूर्त से भी
प्रेम बरसाता है।
ये निर्विवाद सत्य है
😊
थोड़ा मुश्किल तब बनता है,
जब समर्पण न चाहते हुए
जब प्रेमी ये कहे कि
बांधकर रखो ना मुझे खुद से,
तुम हक जताया करो ना मुझपर!
और
जता देने पर संघर्ष हो!

Read More

जानी पहचानी
प्यार की कुछ बात है

कभी बढती कभी घटती
कभी आसमान सी विशाल कभी शून्य
अहसास करवटें बदलता रहता है
ये ठीक भी है
जब तक कोई भी रिश्ता है
❣️
बस जो इन्सां के साथ की
"आदतें"
होती है ना?
उसका इलाज नहीं बना है अब तक
...
...तु चाहिए हमेशा...
❣️
...Abhipsha...

Read More

बहुत कुछ कहने सुनने के बाद
एक अंतराल और फिर
वो समय आता है
जब कहने को खामोशी
और
सुनने को सन्नाटे
रह जाते हो
❣️
शायद यही वो समय हो
जब प्यार चरम पर हो
और
बस कैसे भी करके
'जताया जाएगा'
इस प्रतिक्षा में
तूटती नब्ज गिन रहा हो..!
❣️
...Abhipsha...

Read More

कहां चाहते हैं हम
प्यार करते रहो

बस

वहम जो पाल रखा है दिल ने,
उसे तो जिंदा रखो!

❣️
...Abhipsha...

एकबार पूछकर देखो ना...
"कैसे हो?"

सारे हकीम, सारी दवाईयां...
धरी की धरी रह जाएगी

और

तबियत बाग-बाग हो जाएगी
...सच्ची मुच्ची...
🤗
❣️
...Abhipsha...

Read More

आइये
आओ
आ जा

बस इनका फर्क
समज लो सरकार!

मालूम हो जाए जब,
कैसे बुलाते हैं...
बुला लेना,
बेशक उसी पल आ जाएंगे।
😊

।। बाकी सयानापन फिजूल है।।
...
❣️
...Abhipsha...

Read More

वैसे तो सब सही ही
लगा था बनाते वक्त
...
पता नहीं क्यों,
चाय
थोड़ी फिक्की
लग रही है,
तुम जरा मेरे इस कुल्हड से
एक दो चुस्कियां लगा लो
❣️
सही हो ही जाएगी
😌❣️😌
❣️
...Abhipsha...

Read More

आबाद तो आप रहेंगे ही
हमारे साथ हो या हमारे बाद
❣️
बहुत मिन्नतें की है आपके नाम
...
तन्हाई तो नहीं छू पाएंगी आपको
बस,
दर्द कभी रहे भी,
तो बंटते रहेना उन लोगों में
जिनसे घिरे रहेते हो आजकल
😊
...
❣️
...Abhipsha...

Read More

चलो मान लिया है

हम वैसे नहीं है
जैसे हुआ करते थे
...
शायद तब
रोटी सब्जी से थे
पेट भरने को रोज चाहिए
...
अब
मिष्ठान्न से हैं,
कभी कभी होने चाहिए,
बदलाव के लिए बस
...
अब, भला इतने मीठे तो हम हो भी कैसे पाएंगे!
❣️
...Abhipsha...

Read More

पता नहीं उन्होंने
कैसे केह दिया
कि
बहुत हसीन हो
...
उनके ये कहने तक
खूबसूरती के साथ
सारे ताल्लुक
तोड़ चूके थे हम
और
आईना धूल से
सना हुआ रहने लगा था।
❣️
...Abhipsha...

Read More