Hey, I am on Matrubharti!

Some lines for every shayar...




शायरी खुद खुशी का धंधा है...

अपनी ही लाश पर ,

अपना ही कंधा है...!

आइना बेचता फिरता है शायर...

उस शहर में जो शहर ही अंधा है...!!

Read More

आदत है या तलब इश्क है या चाहत
तू दिल में है या साँसों में
तू दीवानगी है या मेरी आशिकी
तू जिन्दगी है या फिर एक किस्सा
पर जो भी है सिर्फ़ तू है...

Read More

जीवन एक संघर्ष है...


ये ख्वाहिशों के काफिले भी कितने अजीब होते हैं ,

ये गुजरते वहीं से हैं, जहाँ से रास्ते नहीं होते हैं...!!

✍️ गीता परमार

Read More

दिल... दिमाग... लफ्ज... अल्फाज़... कागज और किताब...

ना जाने कहाँ कहाँ रखा मैंने तेरी यादों का हिसाब...

नमस्कार दोस्तों कहानी लिखने का यह मेरा पहला अनुभव है आप मेरी कहानी पढ कर अपने किमती अभिप्राय अवश्य दें...🙏

Read More

तुम तारों की तरह रात भर चमकते रहे ,

हम चाँद की तरह तन्हा सफर करते रहे ,

तुम तो बीते वक्त थे... तुम्हें आना न था ,

यूँ ही हम सारी रात करवटें बदलते रहें...!!

Read More

हम अक्सर उसीके समक्ष हार जाते हैं,

जिससे हम निस्वार्थ प्रेम करते हैं..!!

✍️ गीता परमार

अगर में कहुं के रूक जाओ मेरी खातिर तो
रूक जाओगे क्या ??

अगर में कहुं के मुझे
तुमसे मोहब्बत है तो
मेरे हो जाओगे क्या ??

✍️ गीता परमार

Read More

गुजर रही है जिन्दगी

बड़े ही नाजुक दौर से,

मिलती नहीं तसल्ली,

तेरे सिवा किसी ओर से..

कभी सोचा नहीं था कि प्यार में इतने मजबूर हो जायेंगे,

इतना नजदीक आने के बाद भी इतने दूर हो जायेंगे..!!

✍️ गीता परमार

Read More