લખવું ગમે છે બસ...only post

नजर नजरिए में फेर
कहीं प्यार कहीं अहम के ढेर।।

-Padmaxi

ભીતર મહી
વાવેલું એક બીજ
જો
વૃક્ષ બની ઝૂલી રહ્યું.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi

વાવશો જેવું
હ્દયધરા પર કે
ધરણીના હ્દયે
ઊગશે તેવું જ એ નક્કી છે.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi

પીળાં પાનનો
એક સંદેશ
ભલે ખરશું,
હ્દયથી લીલા રહીશું.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi

ટહુકે જો
એક ખગ તરુએ,
તો
વગડો આખોય હરખાય.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi

राधा के लिए कृष्ण ही जान था
कयूँकी कृष्ण के ह्दय में राधा के लिए सिर्फ प्यार ही नहीं बेहद सन्मान था।।

राधेकृष्ण

-Padmaxi Patel

Read More

ઉડતાં તો આવડી જાય
બસ
પધ્ધતિસર ચાલતા શીખવું પડે.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi Patel

सबसे मुश्किल ये जिंदगी
यादों के सफर में कट जाती है।
लाख कोशिशो के बावजूद
दो हिस्सों में बट जाती है।
तुझसे शुरु होती है औंर
तुजमे ही सिमट जाती है।
लडती-झगडती है खुदसे,
खुद ही निपट जाती है।
तय कर लेती है फाँसले
कच्चे धागों सी छूट जाती है।
छोटे बच्चों की तरह है
बारबार बस रूठ जाती है।
मना कर अपनेआप को
दोबारा वहीं लूट जाती है।
बेपरवाही से दिलोजान की
अक्सर ही तूट जाती है।
समेट कर टूकडें प्यारवाले
जिंदगी राह में जूट जाती है।
आहा!......आसान कहाँ.... ये जिंदगी
मूशकिल है बडी...कमबख्त
यादों के सफर में कट जाती है।
पद्माक्षी (प्रांजल)

-Padmaxi Patel

Read More

લખનાર ગમે તે ભાવથી લખે
વ્યક્તિ તે જ અર્થ કાઢે છે,
સમજે છે,
જે એણે સમજવો હોય.

પદ્માક્ષી(પ્રાંજલ)

-Padmaxi Patel

🙏🏼નૂતનવર્ષાભિનંદન🙏

-Padmaxi Patel