Hey, I am reading on Matrubharti!

Meri Ankho ka daam bhi kuch soch kar lagana
Inme khwab hazar baste hein.....

-Jazbaat Sohail

Rishton Me talash sirf sukun ki thi
Fir unke naam chahe kuch bhi rakhlo

-Jazbaat Sohail

तारों की मेहफील में तेरी दास्तान छुपी हे,
तितलियों की कि गुनगुनाहट में तेरी आवाज छुपी हे।

खूदा की मेहरबानी होगी तो,
सर उठाकर देखना सितारों मे चमक ने वाले हैं।
मिल जाए ग़र साथ उसका तो,
चाँद पे देखना हमको आसमां पे चमक ने वाले हैं।

तेरी मजबूरियों की कदर करते है वर्ना ये
मोहब्बत क्या चीज़ हे?
यादों मे देखना तेरे अश्कों की कतारों मे भी
मेरा नाम नज़र आने वाला है।

ना मिलना ही तेरे लिए जरूरी है,
तो नज़र भी मत आ ए सनम,
मिलके बिछड़े तो, ज़ख्मों की आग में भी
तेरे मिलने की चिंगारियां भड़कने वाली हे।

तेरी ख्वाहिश का भरम रखते हैं, सो जाते हैं वर्ना,
ये जहां चीज़ हे क्या? कदमों में तेरे रख दूं।

सपनो की दुनिया में देखना हमको,
तेरी सीने मे धडकने वाले हैं।

-Jazbaat Sohail

Read More

Ek dua par hi ruk gaya he dil
Tere siva ab koi khwahish nazar nahi ati...
Raat bhar hame hichkiyan ati he sohail
Neend to ab use bhi nahi ati....

Ishq me Gulati kya kha ke aaye
Wo log bhi mashawra dene lage
Jinke dudh ke daat nahi aaye

Kabhi jinke liye jina muhal tha
Shaklein unki bhul gaye... Aur
Naam bhi unke yaad nahi

Ye kahani meri khatm kaise hogi
Mohabbat ki dastan juth pe kayam kaise hogi
Mere afsaney padha kar uske bachon ka imtehaan le lena
kahani unko yaad na rahi to meri atma ko shanti kaise hogi...