Hey, I am on Matrubharti . Please follow me on Matrubharti. Hii,,, friends i am on YouTube ,, please subscribe my channe - https://youtube.com/channel/UCQb17IbhPvOfj06RIdWKh3A

ये रात की खामोशियां अक्सर,
बहुत शोर मचाती हैं...
तुम पास नहीं हो मेरे,
अक्सर यही एहसास दिलातीं हैं..!!!


- SHUBHAM SONI

Read More

एक रोज़ जो तुम्हें देखा...…
---------------------------------------------------------------------------
अचानक मेरे सामने जो आ गए तुम
सोचा कि नज़र हटा लूं, न देखूं तुम्हें
मगर, दिल है की माना ही नहीं,
यूं ही एकटक देखता रहा.. उसे..!!
इन इशारों में बस एक ही सवाल था,
किसकी खातिर तुमने हमें छोड़ा,
आखिर कौन तुम्हें, हमसे ख़ास था ।
---------------------------------------------------------------------------

Read More

ये नज़रों का धोखा है,
या, सच में हमने तुम्हें ही देखा है..!!!


- SHUBHAM SONI

आखिर कब तक मैं, खुद को साबित करता रहूंगा...
मुहब्बत के इस सफ़र में, यूं ही तड़पता रहूंगा..!!



- SHUBHAM SONI

दुनिया की, इस भीड़ में खो गया था कहीं,,
अब जिंदा रहने के लिए, ख़ामोशी चाहता हूं...!!




- SHUBHAM SONI

हिंदू नववर्ष का प्रारंभ चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से होता है। इस साल हिंदू नववर्ष का प्रारंभ आज 02 अप्रैल दिन शनिवार को चैत्र नवरात्रि से हुआ है। हिंदू नववर्ष को विक्रम संवत या नव संवत्सर कहते हैं। इसका प्रारंभ सम्राट विक्रमादित्य ने किया था, जो चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरु होता है। आज हिंदू नववर्ष 2079 या विक्रम संवत 2079 का प्रारंभ हुआ है। हिंदू नववर्ष को विक्रम संवत, नव संवत्सर, गुड़ी पड़वा, उगाड़ी आदि नामों से भी जाना जाता है। विक्रम संवत के प्रथम दिन से ही बसंत नवरात्रि का प्रारंभ होता है, जो चैत्र नवरात्रि के नाम से लो​कप्रिय है।

विक्रम संवत 2079 का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से होता है। इस बार चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 01 अप्रैल को दिन में 11:53 बजे से हो रहा है और इसका समापन 02 अप्रैल को दिन में 11:58 बजे होगा। ऐसे में सूर्योदय के आधार पर तिथि की गणना होती है। इस प्रकार विक्रम संवत 2079 या हिंदू नववर्ष 2079 का पहला दिन 02 अप्रैल से शुरु होगा।

Read More

राहों की मुश्किलों से
क्या चलना छोड़ देंगे...
वो मुहब्बत ना करें हमसे,
तो क्या हम मुहब्बत करना
छोड़ देंगे...!!!



- SHUBHAM SONI

Read More

तेरी गली से गुजरे, तो तेरी याद आई,,
आरजू तो बहुत थी, तुमसे मिलने की,,
लेकिन,, मुझे तेरी बेवफाई याद आई...!!!

- SHUBHAM SONI

तू साथ चल या छोड़ दे,,
तू जान है ये जान ले..!!

तुम्हें आईने में देखने की हिम्मत नहीं है मेरी,,
जो टूट गया तो...
तुम्हारे हजारों चेहरे
दिखा देगा..!!!




- SHUBHAM SONI