Hey, I am reading on Matrubharti!

अच्छे वक़्तों की तम्मना में रही उम्र-ए-रवां,
वक़्त ऐसा था के बस नाज़ उठाते गुजरी..
ज़िन्दगी ख़ाक ना थी, ख़ाक उठाते गुजरी..
तुझसे क्या कहते तेरे पास जो आते गुजरी..

Read More

भले ही आज तिरंगा मत लहराना,
पर कल जब तिरंगा जमीन पर मिले तो उसे जरूर उठाना..
स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं..

Read More

बेशक ये राखी की डोर इतनी मजबूत नही,
पर इससे जुड़ा बंधन अटूट है..
शायद कुछ दिन बाद ये फ़ीकी पड़ जाए,
पर इसमें चढ़ा ये प्रेम का रंग अमिट है..
ओर ये भी होगा कि एक दिन ये धागा नष्ट हो जाएगा,
पर इससे जुड़ा हर रिस्ता हमेशा रहेगा..
रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएं..

Read More

यूँही मुस्कुराहटों को जोड़ जोड़ कर बनाई थी ख़ुशियों की चादर...
मेरी गम-ए-तन्हाई तो देखो इसे भी उड़ा ले गयी..

सावन बरसेगा प्रेम के रंग में,
रंगेंगे हम मेरे महादेव के संग में..🙏

आसान नही थी पर मुस्कुराते गुजरी,
लड़खड़ाते ही सही पर कदम बढ़ाते गुजरी..
साथ में ना सही पर तेरी याद में गुजरी,
ज़िन्दगी जीने में कम बस ख्वाब में गुजरी..

Read More

दर्द कहाँ छुप पाते हैं दिल के लाख कोशिशें हों छुपाने की,
मासूम निग़ाहें झूठी मुस्कुराहट का हर दर्द बयां करती है...

Read More

कुछ भावनाएं जो लफ्जों में बयां नहीं हो सकती..
उन्हें कागजों में बिखेरने की कोशिश करती हूं..
वो उदासी जो मेरी हंसी से छलक जाती है ...
उन्हें इन अल्फाजों में समेटने की कोशिश करती हूं...

Read More

मोहब्बत बदल गयी इसके पैमाने बदल गए,
इश्क़-ए-वफ़ा के ज़मानें बदल गए...

छुपे है जो दर्द और दफन है जो राज
बन्द है तो लाख है खुल गए तो ख़ाक..