Hey, I am reading on Matrubharti!

*परख से कब जाहिर हुई*
*शख्सियत किसी की...*

*हम तो बस उन्हीं के हैं,*
*जिन्हें हम पर यकीन है...*