M.sc(chemistry),B.Ed प्रिय दोस्तों, रसायन विज्ञान की प्रयोगशाला में पता नहीं ऐसा कौन सा केमिकल रिएक्शन हुआ कि मैं साहित्य का हो गया।अब साहित्य लिखता हूँ, साहित्य गाता हूँ और साहित्य जीता हूँ। तो दोस्तों, जिंदगी एक उपवन है और हम सब उसके फूल, खुद महकें और दूसरों को भी महकाएं।। धन्यवाद, राकेश कुमार पाण्डेय"सागर"

गुरु चरणों में अपना शीश,
झुका ले प्यारे,
पावन चरणों से थोड़ी प्रीत,
लगा ले प्यारे।।
देवता भी हैं पूजते जिसको,
ऊंचा स्थान है मिला उसको,
जिसकी करती है वन्दना सृष्टि,
जो ज्ञान रस की सदा करे वृष्टि,
मन में तू सागर रूप उसका बसा ले प्यारे,
पावन चरणों से थोड़ी,
प्रीत लगा ले प्यारे।।
-राकेश सागर

Read More

राकेश कुमार पाण्डेय"सागर"

हमारे गाँव का मौसम https://applinks.kukufm.com/vQA5P8mGosBBaqo26

अपने जन्मदिन के अवसर पर अपने परम् आदरणीय गुरूजी डॉ सुनील जोगी जी का आशीर्वाद लेते हुए।आप सभी मित्रों की हार्दिक शुभकामनाओं की आकांक्षा रखता हूँ।

Read More

तुम्हीं से प्यार करता हूँ https://applinks.kukufm.com/Gsg1JbWEdBnuzXp36

खनक पायलों की,
ये आँखों का काजल,
दिवाना करे दिल,
हुआ मन ये पागल,
इन आँखों की झीलों में,
डूबा है "सागर"
न तुम डूब जाना,
ये नाजुक बहुत हैं,

-राकेश सागर

Read More

तुम्हीं से प्यार करता हूँ https://applinks.kukufm.com/Gsg1JbWEdBnuzXp36

उछलती मेढ़की बारिश का जब सन्देश लाती है,
पियाजी आएंगे सावन में, कोयल गीत गाती है,
पुआलों के बिछौनों में, ठिठुरती पूस की रातें,
कहाँ है चैन गद्दों पर,
वहाँ रिश्ता ही कच्चा है,
हमारे गाँव का मौसम,
शहर तुमसे तो अच्छा है।।
-राकेश सागर

Read More

हवा जब है गुजरती मखमली सी,
मेरे आँगन से,
हमारे गाँव का मौसम, शहर तुमसे तो अच्छा है।
है थाती सभ्यताओं की सँजोए हृदय चेतन में,
बहुत कुछ सीखना है रह गया बाकी,
तू बच्चा है।।
-राकेश सागर

Read More