Hey, I am on Matrubharti!

बदलते वक्त के साथ हमे जीना आ गया ,
हर मुश्किल मे हँसना आ गया,
हे खुदा,....
तुने हर हाल मे जीना सीखा दिया ।

Read More

...तेरी याद मे रातभर करवटें बदलते रहे,
सुबह होते ही जिम्मेदारीओ के तले
यादे चाँद की तरह छुप गई।

तुम्हारे इश्क ने मेरे इश्क की दहलीज पर

कदम रखा और मैने तुम्हारे कदम पे कदम

मिलाया फिर,

जिदंगी ने एक नई करवट ली ।

Read More

तेरे बगैर एक पल भी दूर नही होना था मुझे,
तेरे इश्क़ का पल्लू इतना भारी था की
आज जीदंगी का एक पडाव पार करके भी
तेरा इन्तज़ार रहेता हैं।

Read More

आखोँ से दिल तक पहुँचने का रास्ता बडा ही
आसान था
मगर,
दिल मे टिके रहनेका रास्ता बडा ही मुश्किल था ।
वो भी हम ने पार किया,
इसलिए
आज भी हम साथ साथ हैं।

Read More

जिदंगी के सफर मे गुजर जाते है जो मकाम,
वो फिर नही आते
आती तो बस यादे पूरानी, भुली बिसरी यादें,

मेरे गांव का एक कोना तूम्हारी यादों से जूडा
हुआ हैं।
शरारत भरी हरकतो से महेंक रहा हैं।
तुम चले गये मगर यादोँ का खजाना छोड गये
इस खजाने से आज हम दिल से अमीर बन गये हैं।

Read More

हे प्रभु ,
कुछ एसा करो ना
कोरोना की बला टल जाये
दिन, रात मरनेवाले इन्सान तो चले जाते है
पीछे जो परिवार है, चसकी हालत कैसी?
हे प्रभु,
कुछ एसा करो ना, कोरोना की बला टल जाये
पता है हर इन्सान को जाना है एकदीन
पर, उसकी वजह कोरोना कयुँ?
कोइ जब अपना गँवा देते हैं,
कया उसकी कमी कोई पूरी कर सकेगा?
हे प्रभु,
कुछ एसा करो ना
कोरोना की बला टल जाये।

Read More

आखोँ को पढ सके एसा नजरिया बहोत कम लोगों मे होता हैं।
एसा होता तो कागज , कलम बाजार मे बिकते ही
नही ।

गुजरा हुआ वक्त कभी वापस नही आता,

गुजरी हुई यादें कभी पीछा नहीं छोडती

वक्त और यादें का फासला चलता ही रहता हैं।

Read More