I am reading on Matrubharti!

लिखने के शौख से लोगोने हम पर हजार सवाल उठाए,

देख लाख पूछने पर भी हमने तेरा नाम अबतक छुपाये रखा है।