Hey, I am on Matrubharti!

झूठे रिश्तों पर अभी भी एतबार है मुझे,
फिर दो धोखा कि अभी भी प्यार है मुझे !! अजीत सिंह गौतम्

तुम ख्याल भर कहाँ हो, जिसे झाड़ कर गुजर जाऊँ
तुम तो एहसास हो .... दिल में रहोगे तमाम उम्र !! अजीत सिंह गौतम्

शुभ रात्रि

आप जो कभी रुठ गये तो तरकीब बताईएगा मनाने की, जिंदगी गिरवी रख दूंगा आप कीमत बताईएगा मुस्कुराने की..!! अजीत सिंह गौतम्

Read More

देखता हूं हमारी तस्वीरें कभी, और फिर खुद को देखता हूं मैं...!! अजीत सिंह गौतम्

रिश्ते तोड़ने का आसान तरीका है बस सच बोलते जाइये,सब रिश्ते टूट जायेंगे !!

शुभ प्रभात

मुझे रह रह के होती है ......
तलब क्यूँ तेरे लफ़्ज़ों की...
..कोई शायद हमारे दरम्याँ ....
रिश्ता रूहानी है.... अजीत सिंह गौतम्

Read More

अनसुलझे सवालों का सुलझा हुआ लकीर हूँ,
आप मानो न मानो एक अलग ही फकीर हूँ

अजीत सिंह गौतम्

शुभ रात्रि