Welcome to DK"s World...

अपनी फुरसतों को संभाल कर रखना...

मेरी मसरूफि़यत खत्म होने पर है...

पता नही दुआ थी या बददुआ...
एक दुश्मन ने कहा था...
जा तुझे....
इश्क़...
होगा...

मेरे लफ्जों को वो बारीकी से पहचान जाएगी...

तो उसे मुझसे नही खुद से मुहब्बत हो जाएगी...

मसरूफ़ हुए... खूब मशहूर भी हुए...

शानो शौकत भरपूर भी हूए...

मगर हां... फुर्सत से दूर भी हुए...

#फुर्सत

गली गली जाके वो अपना कर्म बताते है...

हां वही.. जिनके जुल्मों का कोई हिसाब नही...

#कर्मा

बंदिशे क्या है... उलझनें कया है...
कुछ तो बता दो...!
इल्तिजा क्या है...
बस आंखों से सुना दो...

कडवे पलो के किस्सो को...
दिल से भूला दो...
इन रतजगी आंखोंमें भरे...
खारे पानी को बहा दो...

चहेरे का ख़ालीपन... दिल का भारीपन...
ये कश्मकश का दौर मिटा दो...
इन अंधेरों को बेचकर...
नये उजालों को बसा लो...

इन बारीशों मे खुद को भीगा दो...
तुम्हें खुश देखकर चैन आयेगा मुझे...
बस जरा सा मुस्कुरा दो...

#ठीक -हो-जाओ

Read More

Dear friends... 🙏

My first song has been released... 🎶🎶🎤🎻

बेसब्री... ईंतजारी... शाम हो चली... रात आ गई...

फिर इक बहाना वही... कि बरसात आ गई...

Dk's world...

Read More
epost thumb

कश्मकश में हुं...
उन्हें क्या कहे दूं...

हां कहे दूं... या ना कहे दूं...

वो चाँद मांग रहे है...

सोच रहा हुं...
उन्हें आईना दे दूं...

#रोमांचक

Read More

Good morning friends...

પ્રથા -2 .......published.... 🎬

Give your precious review... 🖋


https://www.matrubharti.com/book/19885964/rule-2