Hey, I am reading on Matrubharti!

क्यों न अब शुकुन से सोया जाए अब बचा ही क्या है जो खोया जाए

माँ- क्या हालत बना रखी है अपने रूम की

मै - (मन मे) अभी तो आपको मेरी ज़िंदगी के बारे में नही पता

એક જાણીતો અવાજ બોલ્યો

"રોંગ નંબર"

हम रोज दुवा करते थे उनके संवर जाने की
जिनके मन मे विष घुल रहा था हमारी तबाही का

-तेजल "अलगारी"

દુનિયાભર ની નારાજગી છે તારા થી પણ તારા હિસ્સા નો સમય તો આજ પણ તારો જ છે

#missyou

दोनो ने ही छोड़ दी फिक्र

उसने मेरी , मैने खुद की

"અહીંયા બધા સ્વાર્થી છે"
ત્યાં સુધી ઠીક હતું
" including me" એ આજ પણ ધારદાર બની હૃદય ને ચિરે છે

.

एक टिस उठी है दिल मे
बस आग ही आग लगी पड़ी है

आजा बारिस भीगा दे मुझको
खुदको तबाह करने की जल्दी बड़ी है


हो जाऊं तहसमहज खुद के ही हाथों उससे पहले रहम करदे मुजपे टुकड़ो में बिखर जाऊ शायद आ चुकी वो घड़ी है


खेल रहा है यहा हर एक इस दिल को खिलौना समझकर
खैलना तो आसान है पर वफादारी से उसकी संभाल रखने में महेनत कड़ी है


"अलगारी" दिल को समजाना है के कोई नही यहाँ तेरा, पागल समज बैठा है कि पूरी दुनिया यहा उनके लिए खड़ी है


एक टिस उठी है दिल मे
बस आग ही आग लगी पड़ी है

-तेजल "अलगारी"

Read More

क्यों ना करे गुरुर हम खुद पे
जिनके लाखो चाहनेवाले है
वो सिर्फ हम पे मरता है😘😘😘

-तेजल "अलगारी"