jay shree krishna जो दिल मे आता है वह लीख देती हू ।

उम्मीद हो बडी , तो जख्म भी बडा होता है,
हंमेशा ज्यादा भरोसा ही दर्द देता है,
दूसरो के बारे मे सोचना ही गुना है यहा,
जबकि हर अपना दीखनेवाला अपना होता है कहा??

_Dhanni

Read More

નિરાશાઓ ઘણી વાર મળે છે પણ,
પ્રયત્ન કરતા રહેવું જોઈએ,
મનથી ક્યારેય ન હારવું
હારવાથી શિખાય છે અને ,
સતત પ્રયત્નો કરવાથી જ જીતાય છે.

_Dhanni

Read More

પ્રેમ જ્યારે થઈ જાય છે,
ત્યારે દોષ અને ગુણ ક્યાં જોવાય છે?
એકબીજાના રંગમાં રંગાઈ જવાય છે,
ને જઘડા પણ ઘણાં થાય છે,
તો પણ સાથે રહેવાનું જ મન થાય છે,
વાતો ઘણી થાય છે ને મન પણ ત્યાં જ પરોવાય છે,
થોડા દિવસની વાતો ધીમે ધીમે આદત બનતી જાય છે,
દિવસે દિવસે પ્રેમ પણ વધતો જાય છે,
અજાણમાથી મિત્ર બની,
એ મિત્રતા ખબર ના ક્યારે પ્રેમમાં ફેરવાઈ જાય છે,
લખવું હોય થોડું, પણ તારા વિશે ઘણું લખાઈ જાય છે.

_Dhanni

Read More

ભણતર તો ઘણું મળ્યું પણ ગણતર ક્યાંક રહી ગયું,
મોબાઈલની આ ડિજિટલ દુનિયામાં સબંધ ક્યાંક ખોરવાઈ ગયું ,
પહેલા આનંદમા જીવતા લોકો આજે દેખાદેખીમાં સપડાઈ ગયાં,
સાથે બેસવાનો મિજાજ હતો, જે આજે અહંકારનો તહેવાર બન્યો.

_Dhanni

Read More

जो सोचा नही था वो आज पाया है,
मांगी थी सिफॅ दोस्ती लेकिन ,
प्यारा सा हमदर्द पाया है।
लोग तरसते है प्यार को ,
मेने तो बिना मांगे अनमोल तोफा पाया है,

_Dhanni

Read More

अजनबी से थे तुम, आज कुछ खास हो,
जहा बाते भी नहीं थी, आज प्यारी सी मुलाकात हो,
सिफॅ नाम से ही आनेवाली मुस्कान हो,
जिसे सारे राज कहु वो इंसान हो,
कुछ रिश्ते बया नही होते,
प्यार से भी उपर रखु वह खास जज्बात हो।

_Dhanni

Read More

जीवन एक संघर्ष ही तो है,
कहा किसी को तकलीफे कम है,
पर हंमेशा हर परिस्थिति मे खुश रहेना
यही तो हर दुःख का मलहम है।
कभी कभी हारने मे भी आनंद है,
आगे बढकर पीछे न देखने मे ही अच्छापन है,
जो तकलीफ देता है भुला दो उसे,
खुद के साथ रहेना भी क्यां कम है??

_Dhanni

Read More

नादान सा दिल है ये मेरा , कैसे इसे मे समझाऊ,
जो है गलत , वहा कभी कभी मै चलती जाऊ,
दुर रहना चाहु जिससे पास उसीके जाऊ,
जिद हो जाती खत्म मेरी ,
और बात भी उससे करना चाहु।

_Dhanni

Read More

चल आज नई शुरुआत करते हैं,
पहले खुद से ही जीतने की बात करते है,
दूसरो की कमीयाँ तो बहोत ढूंढी,
आज खुद की गलती सुधारने का काम करते है,
इसके जैसा या उसके जैसा बनना है यह इनकार करते है,
पहले खुद मे सुधार करेंगे यही एक बात करते हैं।

_Dhanni

Read More

थोडा पीछे ही तो हटे है,
हार कहा मानी है,
अपनी मंजिल से प्यार है,
बस सुबह शाम यही तो काम है,
हार मानना सिखा ही नही ,
ना कभी हार मानी है,
जो हार कर भी जीत जाता है,
वही तो आगे बढता जाता है।

_Dhanni

Read More