जो किस्मत से मिलते है कीमत से नही.........

*“फितरत किसी की ना आजमाया कर ऐ जिंदगी !*
*हर शख्स अपनी हद में*
*बेहद लाजवाब होता है..।”*

🙏🌹 *"सप्रेम हरिस्मरण"* 🌹🙏

Read More

अ॑ग्रेजी के "C" से हुआ सिरदर्द

😊😊😂😂😂
गांव की नयी नवेली दुल्हनअपने पति से अंग्रेजी भाषा सीख रही थी,
लेकिन अभी तक वो "C" अक्षर पर ही अटकी हुई है।

क्योंकि, उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि
"C" को कभी "च" तो

कभी "क" तो

कभी "स" क्यूं बोला जाता है।

एक दिन वो अपने पति से बोली, आपको पता है,

"चलचत्ता के चुली भी च्रिचेट खेलते हैं"
पति ने यह सुनकर उसे प्यार से समझाया

, यहां "C" को "च" नहीं "क" बोलेंगे।
इसे ऐसे कहेंगे, "कलकत्ता के कुली भी क्रिकेट खेलते हैं।

"पत्नी पुनः बोली "वह कुन्नीलाल कोपड़ा तो केयरमैन है न ?

"पति उसे फिर से समझाते हुए बोला, "यहां "C" को "क" नहीं "च" बोलेंगे।

जैसे, चुन्नी लाल चोपड़ा तो चेयरमैन है न

थोड़ी देर मौन रहने के बाद पत्नी फिर बोली,"आपका चोट, चैप दोनों चाटन का है न ?

"पति अब थोड़ा झुंझलाते हुए तेज आवाज में बोला,
अरे तुम समझती क्यूं नहीं, यहां"C" को "च" नहीं "क" बोलेंगे

ऐसे, आपका कोट, कैप दोनों कॉटन का है न

पत्नी फिर बोली - अच्छा बताओ, "कंडीगढ़ में कंबल किनारे कर्क है ?

"अब पति को गुस्सा आ गया और वो बोला, "बेवकुफ, यहां "C" को "क" नहीं "च" बोलेंगे।

जैसे - चंडीगढ़ में चंबल किनारे चर्च है न

पत्नीसहमते हुए धीमे स्वर में बोली,"

और वो चरंट लगने से चंडक्टर और च्लर्क मर गए क्या ?

"पति अपना बाल नोचते हुए बोला," अरी मूरख, यहां
"C" को "च" नहीं "क" कहेंगे...

करंट लगने से कंडक्टर और क्लर्क मर गए क्या?

इस पर पत्नी धीमे से बोली," अजी आप गुस्सा क्यों हो रहे हो... इधर टीवी पर देखो-देखो...

"केंटीमिटर का केल और किमेंट कितना मजबूत है

"पति अपना पेशेंस खोते हुए जोर से बोला, "अब तुम आगे कुछ और बोलना बंद करो वरना मैं पगला जाऊंगा।"

ये अभी जो तुम बोली यहां "C" को "क" नहीं "स" कहेंगे -

सेंटीमीटर, सेल और सीमेंट

हां जी पत्नी बड़बड़ाते बोली,

"इस "C" से मेरा भी सिर दर्दकरने लगा है।

और अब मैं जाकर चेक खाऊंगी,

उसके बाद चोक पियूँगी फिर

चाफी के साथ

चैप्सूल खाकर सोऊंगी

तब जाकर चैन आएगा।

उधर जाते-जाते पति भी बड़बड़ाता हुआ बाहर निकला..

तुम केक खाओ,
पर मेरा सिर न खाओ..

तुम कोक पियो या
कॉफी, पर मेरा खून न पिओ..

तुम कैप्सूल निगलो,
पर मेरा चैन न निगलो..

जिसे देखकर मैंने भी निर्णय कर लिया कि अंग्रेजी में बहुत कमियां है, हम हिदुस्तानी हैं अतः अपनी हिंदी पर गर्व करें।
😀😀😀😀🤣🤣🤣🤣

Read More

टीचर ने सीटी बजाई और स्कूल के मैदान पर 50 छोटे छोटे बालक-बालिकाएँ दौड़ पड़े।
सबका एक लक्ष्य। मैदान के छोर पर पहुँचकर पुनः वापस लौट आना।

प्रथम तीन को पुरस्कार। इन तीन में से कम से कम एक स्थान प्राप्त करने की सारी भागदौड़।

सभी बच्चों के मम्मी-पापा भी उपस्थित थे तो, उत्साह जरा ज्यादा ही था।

मैदान के छोर पर पहुँचकर बच्चे जब वापसी के लिए दौड़े तो पालकों में " और तेज...और तेज... " का तेज स्वर उठा। प्रथम तीन बच्चों ने आनंद से अपने अपने माता पिता की ओर हाथ लहराए।

चौथे और पाँचवे अधिक परेशान थे, कुछ के तो माता पिता भी नाराज दिख रहे थे।

उनके भी बाद वाले बच्चे, ईनाम तो मिलना नहीं सोचकर, दौड़ना छोड़कर चलने भी लग गए थे।

शीघ्र ही दौड़ खत्म हुई और 5 नंबर पर आई वो छोटी सी बच्ची नाराज चेहरा लिए अपने पापा की ओर दौड़ गयी।

पापा ने आगे बढ़कर अपनी बेटी को गोद में उठा लिया और बोले : " वेल डन बच्चा, वेल डन....चलो चलकर कहीं, आइसक्रीम खाते हैं। कौनसी आइसक्रीम खाएगी हमारी बिटिया रानी ? "

" लेकिन पापा, मेरा नंबर कहाँ आया ? " बच्ची ने आश्चर्य से पूछा।

" आया है बेटा, पहला नंबर आया है तुम्हारा। "

" ऐंसे कैसे पापा, मेरा तो 5 वाँ नंबर आया ना ? " बच्ची बोली।

" अरे बेटा, तुम्हारे पीछे कितने बच्चे थे ? "

थोड़ा जोड़ घटाकर वो बोली : " 45 बच्चे। "

" इसका मतलब उन 45 बच्चों से आगे तुम पहली थीं, इसीलिए तुम्हें आइसक्रीम का ईनाम। "

" और मेरे आगे आए 4 बच्चे ? " परेशान सी बच्ची बोली।

" इस बार उनसे हमारा कॉम्पिटीशन नहीं था। "

" क्यों ? "

" क्योंकि उन्होंने अधिक तैयारी की हुई थी। अब हम भी फिर से बढ़िया प्रेक्टिस करेंगे। अगली बार तुम 48 में फर्स्ट आओगी और फिर उसके बाद 50 में प्रथम रहोगी। "

" ऐंसा हो सकता है पापा ? "

" हाँ बेटा, ऐंसा ही होता है। "

" तब तो अगली बार ही खूब तेज दौड़कर पहली आ जाउँगी। " बच्ची बड़े उत्साह से बोली।

" इतनी जल्दी क्यों बेटा ? पैरों को मजबूत होने दो, और हमें खुद से आगे निकलना है, दूसरों से नहीं। "

पापा का कहा बेटी को बहुत अच्छे से तो समझा नहीं लेकिन फिर भी वो बड़े विश्वास से बोली : " जैसा आप कहें, पापा। "

" अरे अब आइसक्रीम तो बताओ ? " पापा मुस्कुराते हुए बोले।

तब एक नए आनंद से भरी, 45 बच्चों में प्रथम के आत्मविश्वास से जगमग, पापा की गोद में शान से हँसती बेटी बोली : " मुझे बटरस्कॉच आइसक्रीम चाहिए। "

*क्या इस बार अपने बच्चो के रिजल्ट के समय हम सभी माता पिता का व्यवहार कुछ ऐसा होना चाहिए ....विचार जरूर करे और सभी माता पिता तक जरुर पहुचाये

Read More

इलाइची की महक ओढ़े
अदरक का श्रृंगार कर सजी थी
केतली की दहलीज से निकल कर
प्याली की डोली में बैठी थी
इस भागते हुए वक्त पर
कैसे लगाम लगाई जाए
*ऐ ठंड ... आ बैठ *
*तुझे एक कप चाय पिलाई जाए ☕*

Read More

*"बर्फ का वो शरीफ टुकड़ा जाम में क्या गिरा... बदनाम हो गया..."*

*"देता जब तक अपनी सफाई... वो खुद शराब हो गया.....*

Read More

*जरूर कोई तो लिखता होगा काग़ज़ और पत्थर का भी नसीब...*

*वरना ये मुमकिन नहीं कि..*
*कोई पत्थर "ठोकर" खाए*
*और कोई पत्थर "भगवान" बन जाए!!!*

*और कोई काग़ज़ "रद्दी" तो कोई काग़ज़ "गीता" बन जाए!!!*

Read More

*आज ठण्ड इतनी पड़ रही है*
*कि...*

*"अकड़" के रहने वाले लोग भी*
*"सिकुड़" के बैठे हैं...!*

😜😜😜😜