Adhure se ishk ki adhuri si yaad Wo adhuri si zindgi or adhuri si bat .....

वक़्त अछा हो या फिर बुरा,

आख़िर है तो वक़्त ही,

बीत जाएगा..!


—अमृत

'ભરોસો' એક એવી વસ્તુ છે,કે જેના તૂટવા પર કોઈ અવાજ તો નથી થતો પણ....
એની 'ગુંજ' જીવન આખું સંભળાતી રહે છે એકાંતમાં.

Read More

कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं जिसमें इंसान अच्छा लगता है और कुछ इंसान ऐसे होते हैं जिनसे रिश्ता अच्छा लगता है,,!

अनजाने ही सही जैसे कि में और आप…


—Amrut

Read More

सांस रोक लू ये मेरे बस में हैं,

याद कैसे रोक लू तेरी..,

तू मेरे नस नस में है…!

—अमृत