भावों की ये, अभिव्यक्ति शब्दों के आधार है मेरी कलम ही, मेरे अस्तित्व की पहचान है.

जिन्दगी हर रोज,
एक नया सबक सीखती है,
बस हमें सीखने की चाह होनी चाहिए।

#Learn

#चेहरा

चेहरा होता है,
व्यक्ति की पहचान,
ये आईना है दिल का,
धड़कन की पहचान,

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित
#Face

#क्षणिका
*******

जन्म - मरण,
मिलन - जुदाई,
धन - दौलत,
अपने - पराये,
और ये रिश्ते - नाते,
इससे तुम प्रीत मत करना
ये सब तो हैं बस.. मोह बंधन


Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

#मोह


मन मोहन
मोह के वश बांधे,
प्रेम की डोर,
🌼🌼🌼🌼
मोह ना छूटे,
हरि तेरे नाम से,
नाता अटूट।
🌺 🌺 🌺 🌺
ये नाते - रिश्ते,
सब मोह के द्वार,
जीवन भार।



Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

मासूमियत थी निगाहों में जिनकी,
वही तो शराबों के मेहखाने निकले..

Uma

सागर से ना पूछो,
उसकी गहराई,
क्युकी उसे जानने के लिए,
खुद डूबना पड़े गा।
#Ask

रात से पूछो,
खामोशी क्या हैं?
चाँद से पूछो,
चाँदनी क्या है?
सूरज से पूछो
ऊर्जा क्या है?
फूलों से पूछो,
खुश्बू क्या है?
अंधेरों से पूछो,
रोशनी क्या है?
दिल से पूछो,
धड़कन क्या हैं?
धड़कन से पूछो,
प्यार क्या है?
सभी का जवाब एक ही होगा,
"सिर्फ तुम"
❤️❤️



#Ask

Read More

जिसे हर हाल में जिने की #कला आ गई।
दुनिया में सब से बड़ा कलाकार भी वही हैं।

#Art

#फ़िर_मुस्कुरायेगा_जहान


पतझड़ में फिर आयेगी बाहर,
कलियाँ खिलेगी फिर एक बार,
उपवन की फिर बढ़ेगी शान,
फिर मुस्कुरायेगा जहान।

तूफान एक दिन थम जायेगा,
बहारों का मौसम फिर आयेगा,
कोयल फिर गायेगी मधुर गान,
फिर मुस्कुरायेगा जहान।

गम के पल निकल जायेगें,
हर दिल फिर मुस्कुरायेगें,
आयेगी चहरे पर मुस्कान,
फिर मुस्कुरायेगा जहान।

मानेगें नहीं कभी भी हार,
जीत जायेगे फिर एक बार,
मन में लिया फिर ये ठान,
फिर मुस्कुरायेगा जहान।


Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

मुझे गर्व हैं कि....
मैं उस देश जन्मी जिसने दुनियां को ज़ीरो दिया और दुनिया भर को गणना करना सिखाया।

जय हिंद 🇮🇳

#Zero

Read More