Travel Stories free PDF Download | Matrubharti

आमची मुम्बई - 17
by Santosh Srivastav
  • (1)
  • 13

मुम्बई मैं घूमने के लिए नहीं बल्कि यहीं बस जाने के लिएआई थी जब जबलपुर में थी तो कच्ची उमर के मेरे लेखन में प्रौढ़ता नहीं थी ...

३५. महाराष्ट्रातील किल्ले - १०
by Anuja Kulkarni
  • (2)
  • 31

३५. महाराष्ट्रातील किल्ले- १० ९. सज्जनगड- छत्रपती शिवाजी महाराजांच्या काळात रायगड ही शिवशाहीची तर सज्जनगड ही अध्यात्मिक राजधानी मानली जात होती. समर्थ रामदास स्वामींच्या वास्तव्यामुळे पावन झालेल्या या सज्जनगडाला ...

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 4
by Ranju Bhatia
  • (2)
  • 25

हमारा देश भारत कई सुन्दर जगह से भरा हुआ है, जरूरत है सिर्फ वहां जाने की और अपनी निगाह से देखने की, वाईजेग, विशाखापट्टनम पर्यटक स्थल वाकई स्वर्ग जैसा है! ...

आमची मुम्बई - 16
by Santosh Srivastav
  • (2)
  • 25

भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब भीमराव रामजी आंबेडकर की सवा सौवीं जयंती वर्ष के अवसर पर दादर के इंदु मिल परिसर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों ४२५ करोड़ रुपये ...

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 3
by Ranju Bhatia
  • (2)
  • 32

भारत देश इतनी विवधता से भरा हुआ है कि जितना देखा जाए उतना कम है. इसलिए अहमदबाद गुजरात की यात्रा अभी तक ३ बार कर चुकी हूँ. हर बार इस शहर ने मुझे हैरान किया अपने सुंदर रंग ढंग से, अपनी सरलता से और ...

आमची मुम्बई - 15
by Santosh Srivastav
  • (1)
  • 25

प्रियदर्शिनी पार्क से महालक्ष्मी तक की सड़क महत्त्वपूर्ण इमारतों से युक्त है मुकेश चौक में गायक मुकेश की स्मृति में सी स्टोन से बनी दो मूर्तियाँ स्थापित ...

કર્ણાટક નાં મંદિરો
by SUNIL ANJARIA
  • (9)
  • 101

કર્ણાટકનાં મંદિરો**************અહીંના મંદિરોના ઘુમ્મટ સીધા પિરામીડ આકારના, રંગબેરંગી અને વચ્ચે વચ્ચે ગોખલાઓમાં મૂર્તિઈ વાળા હોય છે. મુરતુઓ ગાય પર કે ઊંટ પર બેઠેલી , હાથમાં ખડગ કે તલવાર જેવું ...

आमची मुम्बई - 14
by Santosh Srivastav
  • (1)
  • 28

गिरगाँव चौपाटी से मालाबार हिल की चढ़ाई बाबुलनाथ से शुरू होती है व्हाईट हाउस, वालकेश्वर, बाणगंगा, राजभवन..... राजभवन पहुँचकर मालाबार हिल का एक कोना समाप्त हो जाता ...

पॅरिस - १०
by Aniket Samudra
  • (4)
  • 23

शेवटचा दिवस ... अलविदा पॅरिस     .. अचानक पॅरिसचा प्लॅन ठरतो काय, दोन महिन्यात आम्ही इथे येऊन धडकतो काय, आणि आता जायची वेळही येती काय. सगळंच विलक्षण होते. ...