Best humour stories in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

વિચારક ગંજી
by hardik raychanda
  • (3)
  • 51

ગિરીશકાકા આમ તો પાછા વિચારક. ખાદીની ખરીદી કરીએ તો બચારા કેટલાનું ય ભલું થાય કેમ? ડિસ્કાઉન્ટ તો બરોબર, એમાં ય પાછું ગાંધીજીની ૧૫૦મી જન્મજયંતી એટલે ૩૦% ડિસ્કાઉન્ટ. પણ ના, ...

कामवाली बनाम घरवाली - (व्यंग्य)
by Shobhana Shyam
  • (4)
  • 151

एक होती है घरवाली ,एक होती है बाहर वाली लेकिन इनके बीच एक होती है काम वाली | ऐसा कहने का मतलब यह कदापि नहीं है कि घरवाली काम ...

दो बाल्टी पानी
by Sarvesh Saxena Verified icon
  • (11)
  • 303

"अरे नंदू… उठ के जरा देख घड़ी में कितना टाइम हो गया है " मिश्राइन ने चिल्ला कर कहा| "अरे मम्मी सोने भी नहीं देती सोने दो ना" नंदू अपनी ...

वर्षा बुलाने का मूल मंत्र
by Dr Narendra Shukl
  • (2)
  • 105

‘‘इधर उत्तरी क्षेत्र में वर्षा बिल्कुल नहीं हो रही । सूखे की आंशका बनी हुई है ।‘‘  . . .  सामने भीड़ - भाड़ वाली सड़क पर देखता हूं ...

प्याजी दर्द एक हकीकत
by Rahul Avinash
  • (1)
  • 73

प्याजी फ्लेवर, प्याजी रंग, प्याजी हिट, प्याजी गोल, प्याजी अदाएं, प्याजी वफाएं, प्याजी दर्द, प्याजी....... वगैरह वगैरह......???????? क्या सोच रहे हैं? कहीं आप ये तो नहीं सोच रहे हैं ...

2020
by Deepti Khanna
  • (1)
  • 118

"New year  ! but what's so new about it ,same days ,same months and weeks and we doing same work.SO why so happy about just a change of number ...

રાફેલ ની શરારત
by Bipinbhai Bhojani
  • (5)
  • 246

'ચમકાઓ 32 સ્ટાર્સ'અરડુસી ટીચર : દીકરા રાફેલ કેમ કઈ કરતો નથી ? વળી પાછી શેતાની કરીને તારે ભણવું નથી લાગતું ? રોજ-રોજ નવી શેતાની કરીને તું બહાના કાઢી ભણવાનું ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग 3
by Krishna manu
  • (4)
  • 126

बीवी का प्रस्ताव सुन शौकीलाल जी भीतर तक कांप उठे। हजार रुपए बड़ी मुश्किल से उन्होंने घर खर्चे में कटौती कर बचाये थे ताकि कई महीने पूर्व शर्मा जी ...

गुरुधर्म
by Bhupendra Dongriyal
  • (3)
  • 128

                                                   गुरुधर्म                             ...

मरण तुमचे, सरण आमुचे
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (3)
  • 168

                                  ** मरण तुमचे, सरण आमचे !**      शहरातील मध्यवर्ती ठिकाणी सर्व सुख ...

भू - गोल (अर्थात दुनियां गोल हैं )
by Deepak Bundela Moulik
  • (2)
  • 135

भू- गोल अर्थात दुनिया गोल है...!जी जनाब, ये बात सभी जानते है के दुनिया गोल है...जिसे हम सीधे से शब्दों में बिना किसी लाग लपेट के कही भी ठोक देते ...

चला धोंडे खाऊया! ॥ 
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (1)
  • 117

                                            ॥ चला धोंडे खाऊया! ॥           'नमस्कार! ...

मी विकत घेतले ... रा-फेल!
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (2)
  • 227

                      मी विकत घेतले ... रा-फेल!      'अग, मी विकत घेतले रा-फेल.......विकत घेतले रा-फेल....' असे पुटपुटत मी माझ्या घरात ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग-2
by Krishna manu
  • (3)
  • 221

-' संबंध है। इसलिए तो मैं कह रही हूं कि यदि आप टीवी,रेडियो, अखबार आदि से नाता रखते तो चाय जैसी बेकार  चीज के लिए फिजूलखर्ची करने के बारे ...

वाढला टक्का मिळेल मुक्का !
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (3)
  • 157

                                    वाढला टक्का मिळेल मुक्का !           विलासपूर नावाचे एक गाव. गाव ...

आपको क्या तकलीफ है
by dilip kumar Verified icon
  • (2)
  • 198

"आपको क्या तकलीफ है "(व्यंग्य)रिपोर्टर कैमरामैन को लेकर रिपोर्टिंग करने निकला।वो कुछ डिफरेंट दिखाना चाहता था डिफरेंट एंगल से ।उसे सबसे पहले एक बच्चा मिला ।रिपोर्टर ,बच्चे से-"बेटा आपका ...

ડુંગળી ની દાંડાઈ
by Rana Zarana N
  • (14)
  • 531

મારાં દાદીમા પાસેથી એક વાર્તા સાંભળી હતી.  મહાભારત યુદ્વ પછી જયારે પાંડવોએ અશ્વમેધ યજ્ઞ કર્યો ત્યારે ક્રિષ્ન ભગવાનને ધરાવેલ રાજભોગ માંથી ડુંગળી સરકીને બહાર જતી રહી.  આથી ભગવાને ગુસ્સે ...

चांद्रयान-२१
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (3)
  • 202

                                      *  चांद्रयान -२१! *           चांद्रयान २० पाठोपाठ चांद्रयान २१ ...

प्यार बनाम गणित
by Dr. Vandana Gupta Verified icon
  • (5)
  • 313

     एक खूबसूरत, चुस्त-दुरुस्त और कुछ कुछ सम्मिश्र संख्या जैसे दिखते लड़के को अपनी ओर घूरते देख घबरा गई। मेरे दिल के समुच्चय में एक नया अवयव दाखिल ...

હોલિકા હેલમેટ
by Bipinbhai Bhojani
  • (4)
  • 205

ચમકાવો 32 સ્ટાર્સ  ( આપણાં સુંદર 32 દાંત ) , હસો , હસાઓ અને વાંચો !નમસ્કાર હું હોલિકા હેલમેટ, નર્ક ટી.વી॰ માં આપ સૌનું સ્વાગત કરું છું ! આપ ...

दंड की भुरदंड!
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (4)
  • 143

                                       * दंड की भुरदंड! *           शहरातील एक मध्यवर्ती भाग!  ...

एक प्याली चाय और शौकीलाल जी - भाग-1
by Krishna manu
  • (2)
  • 295

किस्सा उन दिनो का है जब बिल्ली के भाग से सिकहर टूटा था। कम्पनी के एक कर्मचारी को लम्बी अवधि के लिए अवकाश जाने के कारण रिक्त हुए स्थान ...

सांगण्यापुरते ब्रह्मज्ञान
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (3)
  • 157

                            *सांगण्यापुरते ब्रह्मज्ञान !*                   जिल्हा परिषद केंद्रीय प्राथमिक शाळेचे मुख्याध्यापक त्यांच्या कार्यालयात ...

घरोघरी लखोपती
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (2)
  • 173

                                            * घरोघरी लखोपती!*          दुपारची वेळ होती. अचूक भविष्य ...

अशीही प्रवेश परीक्षा
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (2)
  • 171

                                     °° अशीही  प्रवेश परीक्षा! °°           सुकन्यापुरी नावाचे एक छोटेसे गाव! परंतु या गावाची कीर्ती ...

पाँच सवाल और शौकीलाल जी - 3
by Krishna manu
  • (6)
  • 263

शौकीलाल जी ने लापरवाही से जवाब दिया-' अरे छोड़ो यार, अब तो लोक सेवा आयोग, बैंकिंग सेवा आदि त्यागकर लड़के इसी की तैयारी करने लगे हैं।  अमीर बनने का ...

गर्लफ्रैंड
by The Real Ghost
  • (4)
  • 837

नाटक : गर्लफ्रैंडरोहित एवं मीनाक्षी दोनो एक बड़ी IT फर्म में पिछले 2 सालों काम कर रहे है दोनो उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं रोहित के जॉइन करने ...

राज दुलारी
by Ajay Amitabh Suman Verified icon
  • (5)
  • 906

इस प्रस्तुति में मैंने अपनी चार कविताओं को शामिल किया है।(1)   राज दुलारी    सुन ले मेरी राज दुलारी, मेरे बच्चों की महतारी। क्यों आज यूँ भूखी रहती, ...

चली है बारात
by Dr Narendra Shukl
  • (5)
  • 374

27 नवंबर को विवाह समारोह में शामिल होने के लिये मैं चार स्थानों से आमंत्रित था । शादियां क्रमश ;  ‘घमासान भवन , ‘संग्राम भवन , ‘मेलमिलाप भवन , ...

मी आणि माझी तब्येत
by Nagesh S Shewalkar Verified icon
  • (3)
  • 184

                      * मी आणि माझी तब्येत!*          'नमस्कार! मी अमूक तमूक खमके! वय वर्षे पन्नास! मी आजपासून दररोज सायंकाळी सहा ...