Hindi Stories PDF Free Download | Matrubharti

अच्छाईयां – २७
by Dr Vishnu Prajapati
  • (1)
  • 3

भाग – २७ सूरज अब तेजधार के सिकंजेमें बुरी तरह से फंस रहा था | इन्स्पेक्टर तेजधार जानबूझ के ऐसा कर रहा था या वो सूरज को फ़साने की ...

दास्तान-ए-अश्क - 27
by SABIRKHAN
  • (1)
  • 7

"मुझे मेरी उम्मीद से ज्यादा मिला अय जिंदगी अब कभी मुस्कुराने की गुस्ताखी नहीं करनी मुझे..? "मैडम जी आप कहां हो..?" रज्जो की आवाज सुनकर उसका दिल उछल पड़ा! ...

माफ़ी
by Saroj
  • (1)
  • 20

रमेश बाबू की पत्नी को लास्ट स्टेज का कैंसर बता डॉक्टरों ने दिल्ली एम्स रेफर कर दिया। वैसे रमेश बाबू ने अपने जीवन में कभी पत्नी को उतना महत्व ...

रामेशगर
by Saadat Hasan Manto
  • (4)
  • 43

मेरे लिए ये फ़ैसला करना मुश्किल था आया परवेज़ मुझे पसंद है या नहीं। कुछ दिनों से में उस के एक नॉवेल का बहुत चर्चा सुन रहा था। बूढ़े ...

हिमाद्रि - 2
by Ashish Kumar Trivedi
  • (10)
  • 97

                          हिमाद्रि(2)कुमुद की बात सुनने के बाद उमेश और अधिक परेशान हो गया था। वह बहकी बहकी बातें ...

असली आज़ादी वाली आज़ादी - (भाग-5)
by devendra kushwaha
  • (1)
  • 20

भाग-4 से आगे- सभी गांव वाले चौहान साहब के घर पहुंचे और सभी ने चौहान साहब को बाहर बुलाया। एक नौकर बाहर आके बोला- मालिक तो दिल्ली गए है ...

मनचाहा - 15
by V Dhruva
  • (16)
  • 98

मिताभाभी ने कविभाई को उनकी थाली बहुत मनाने के बाद दी। डिनर करके सब ड्राइंग रूम में आकर बैठे। कुछ देर में सेतुभाभी डार्क चॉकलेट आइसक्रीम लेकर किचन से ...

आमची मुम्बई - 3
by Santosh Srivastav
  • (2)
  • 21

मैं मुम्बई के अतीत की गलियों से गुज़र रही हूँ..... यहाँ गेटवे ऑफ़ इन्डिया और ताज महल की भव्यता और सजधज नहीं है फिर आँखें चकित क्यों ...

अदृश्य हमसफ़र - 7
by Vinay Panwar
  • (5)
  • 38

आज ममता की बारात आनी थी। सुबह सवेरे से ही गहमागहमी शुरू हो गयी थी। सभी के मन मे ऐसी अफरा तफरी मची थी जैसे न जाने आज का ...