Best biography in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

तेरे शहर के मेरे लोग - 3
by Prabodh Kumar Govil
  • 286

( तीन )एक बात आपको और बतानी पड़ेगी।बड़े व भीड़ - भाड़ वाले शहरों में रहते हुए आपकी इन्द्रियां या तो आपके काबू में रहती हैं या फ़िर अनदेखी ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 2
by Prabodh Kumar Govil
  • 234

( दो )एक बात कुदरती हुई कि मैं जो उखड़ा- उखड़ा सा जीवन- अहसास लेकर मुंबई से रुख़सत हुआ था, वो आहिस्ता- आहिस्ता यहां जमने लगा।न जाने कैसे, मुझे ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 1
by Prabodh Kumar Govil
  • 649

( एक )जबलपुर आते समय मन में ठंडक और बेचैनियों का एक मिला- जुला झुरमुट सा उमड़ रहा था जो मुंबई से ट्रेन में बैठते ही मंद- मंद हवा ...

मेरी नजर में प्रकाशक
by Sandeep Tomar
  • 213

मेरे सरोकार(एक अन्यर्यात्रा)   एक अंश---प्रकाशकों से रिश्ते   प्रेमचंद युग में लेखक प्रकाशक के रिश्ते अवश्य ही आज से जुदा रहे होंगे। तब शायद आज जैसी स्थितियां न हों ...

शितोळे - 3
by RAVIRAJ SHITOLE
  • 112

  पौराणिक इतिहास - शितोळे हे रघुवंशी व सुर्य वंशी आहेत. प्रभू रामचंद्र यांचा थोरला मुलगा लव्ह, त्याला अपत्ते नव्हते. त्याने शेषनागाची आराधना केली, शेषनाग लव्ह या राजावर प्रसन्न ...

आत्म कथा
by रनजीत कुमार तिवारी
  • 100

प्रिय पाठकों मेरा सादर प्रणाम, मैं रनजीत कुमार तिवारी  अपनी आत्म कथा आप लोगो से साझा कर रहा हूं।जो मेरी जिंदगी के कुछ खट्टे मीठे यादों के झरोखों से ...

મારો જન્મદિવસ - મારા અનુભવ
by Ankit Chaudhary અંત
  • 360

              આજથી ૨૪ વર્ષ પહેલાં મહેસાણા જિલ્લા ના ઊંઝા તાલુકાના વણાગલા ગામ ના ચૌધરી પરિવાર માં મારો જન્મ થયો હતો. જન્મ સમયે મારો ...

किर_दार
by sk hajee
  • 222

एक ही व्यक्ति के दो किरदारों को मानना मेरे लिए बड़ा मुश्किल है, यूं कहूँ तो उसके दो किरदार मै मानता ही नही । पहले किरदार मे वह लोगों ...

प्रेम भावनेचा मृदू रंग भरणारा व्हायरस - 7 - अंतिम भाग
by Subhash Mandale
  • 156

क्रमशः-७.क्षणार्धात माझं अशांत मन शांत झालं. क्षणभर वाटले, की मी इतकं करतोय, पण अशा कठीण प्रसंगात ना मी कामी आलो ना माझा पैसा. फक्त पैसा नव्हे तर माणूसकीच माणसांच्या ...

લાગણીનાં સંબંધો
by Amit Hirpara
  • (44)
  • 720

       ગુજરાતી માં કહેવાય છે ને લાગણી નાં સંબંધો લોહીના  સંબંધો કરતા મજબૂત હોઈ છે. વાત છે તો સાચી પણ એ સંબંધો ને દિલ થી નિભાવવા પણ ...

The sole migrant
by Deepti Khanna
  • 357

Heatwaves , were striking on the expressway . Sun glint thrashed on the heads of the horde , who were walking on the roads.  Some peddled cycle , some on ...

पूना पलट
by Neelam Kulshreshtha
  • 586

पूना पलट [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] [ टी वी शो ‘बिग बॉस’ की शूटिंग लोनावाला [महाराष्ट्र] में होती है जिसके होस्ट महानायक हैं। इसी शूटिंग की पृष्ठभूमि पर एक ...

प्रेम भावनेचा मृदू रंग भरणारा व्हायरस - 6
by Subhash Mandale
  • 223

 क्रमशः-६.भाऊ- " तोंडातून आवाज येत नाही. पोट फुगलंय. गाडीत डोळे झाकून गप्प पडून आहेत. बर त्या मेडीकलवाल्या बाई आल्या आहेत. आता मेडीकल उघडायचं चाललंय. गोळ्या घेतो. आता ठेव फोन ...

प्रखर राष्ट्रवादी क्रांतिकारी व्यक्तित्व के धनी वीर दामोदर सावरकर
by SURENDRA ARORA
  • 2.3k

प्रखर राष्ट्रवादी क्रांतिकारी व्यक्तित्व के धनी वीर दामोदर सावरकर सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा सन 1857 के वीर यौद्धाओं के बलिदान को चाटूकार इतिहासकारों द्वारा ग़दर कहने वालों को आइना दिखाने ...

प्रेम भावनेचा मृदू रंग भरणारा व्हायरस - 5
by Subhash Mandale
  • 1.1k

 क्रमशः५.मी - " हा बोल भाऊ, दादांच्या फोनवरून कसा काय फोन केलास ?."भाऊ - " आरं... दादास्नी दवाखान्यात घेऊन निघालोय."जेवताना माझ्या हातातला घास कधी गळून पडला, समजलंच नाही. क्षणार्धात ...

कहानी पुरानी दिल्ली की
by Amar Gaur
  • 1.3k

सन् 2001, दीवाली जा चुकी है और मीठी मीठी सी ठंड दस्तक दे चुकी थी । रविवार का दिन था तो घर के उस समय के सबसे छोटे युवराज ...

मला असा जन्म नकोय......
by Prevail_Artist
  • 1.3k

एक कोणाच्या मनातली गोष्ट तुमच्यासमोर सादर करीत आहे नक्की वाचाअअअअअअअ हॅलो ....मला माहितीय मी जर हॅलो केलं तर तूम्ही मला response नाही देणार , कारण मी केलयचं असं.त्यामुळे मी ...

बस मधील एक प्रवास
by Sudhir Ohol
  • 1.1k

                                 बस मधील एक प्रवास माझा कॉलेज चा टाइम हा सकाळी 10 वाजता होता. पण मी लवकर निघत असे घरून. कारण ...

प्रेम भावनेचा मृदू रंग भरणारा व्हायरस - 4
by Subhash Mandale
  • 615

क्रमशः-४. तो पुढे बोलायच्या आतच मी बोललो, " हा बोल विठ्ठल."तो- " कोण विठ्ठल ? आरे मित्रा, मी सतीश बोलतोय !  सतीश कांबळे ! ओळखलं का ? २०११ ला आपण ...

बहीखाता - 47 - अंतिम भाग
by Subhash Neerav
  • 593

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 47 मलाल बहुत सारी ख्वाहिशें थी ज़िन्दगी में। जैसे कि गालिब कहता है कि हर ख्वाहिश पे दम निकले। बहुत ...

जीवन की सोच
by Shivraj Anand
  • 574

  (बाधाएं और कठिनाइयां हमें कभी रोकती नहीं है अपितु मजबूत बनाती है)  लफ़्ज़ों से कैसे कहूं कि मेरे जीवन की सोच क्या थीं? आखिर  मैने भी सोचा था ...

बहीखाता - 46
by Subhash Neerav
  • 526

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 46 एक लेखक की मौत चंदन साहब चले गए। कुछ दिन उनके धुंधले-से अक्स दिखते रहे। कभी फोन बजता तो ...

फक्त तुझ्या साठी
by Sudhir Ohol
  • 571

फक्त तूझ्या साठी मला अजून तो दिवस आठवत आहे. ज्या दिवशी मी सर्व प्रथम प्रिया ला भेटलो होतो. खर तर प्रिया ही माझ्या पेक्षा वयाने मोठी आहे. आज तीन ...

प्रेम भावनेचा मृदू रंग भरणारा व्हायरस - 3
by Subhash Mandale
  • 409

क्रमशः-३.हा हा म्हणता दोन आठवडे निघून गेले. जसजसे दिवस जात होते, तसतशी भारतात, त्यातल्या त्यात पुण्यात या व्हायरसच्या रूग्णांची संख्या वाढलेली बातम्यांत पाहायला मिळत होती. ताळाबंदीचा कालावधी अजून वाढण्याच्या ...

बहीखाता - 45
by Subhash Neerav
  • 529

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 45 मनहूस ख़बर दिसंबर का महीना था। मैं ज़रा देर से ही उठी। इतनी ठंड में किसका उठने को दिल ...

ભારતીય વરુ
by Desai Karam
  • 498

ભારતીય વરુ - Indian Grey wolf ગુજરાતી માં જેને નાર ,નાવર , ભગાડ કે ભેડિયા નામે ઓળખીએ છીએ આમ તો શ્વાન કુળ નું પ્રાણી છે આપણે સૌએ એક ફીલ્મ જોઈ હશે ...

बहीखाता - 44
by Subhash Neerav
  • 536

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 44 अविश्वास और तलाश चंदन साहब द्वारा घर बेचने पर तो मैंने रोक लगवा दी थी, पर उसके बाद कुछ ...

भारतीय सर्वेक्षण इतिहासातील सोनेरी पान: कर्नल लॅम्बटन सिद्धेश्वर तुकाराम घुले M.Sc.(Agri.)
by Siddheshwar Ghule
  • 442

२० जानेवारी हा दिवस भारतीय सर्वेक्षण इतिहासातील अधर्व्यू कर्नल लॅम्बटन यांचा स्मृतीदिन! दोनशे पंधरा वर्षांपूर्वी १० एप्रिल १८०२ या रोजी ब्रिटिश कर्नल विल्यम लॅम्बटन यांनी भारतीय सर्वेक्षण इतिहासातील साहसी, ...

શાંત નીર - 5
by Nirav Chauhan
  • 504

“સારિકા ના પપ્પા ને કઈ થઇ નઈ ગયું હોય ને...?” “અહી આવી અને મને કીધું પણ નઈ...???? કે પછી....કઈ બીજી જ ઘટના થઇ હશે...????”           પણ એટલી વાર માં ...

મધકાકા
by daya sakariya
  • (15)
  • 620

આજે મારે વાત કરવી છે મારા મધકાકાની.મધકાકા એટલે પ્રશ્ન થઈ આવે. આવું નામ કેમ છે એમનું નામ ખબર નથી પરંતુ મારા માટે એ મારા મધકાકા છે. વાત એવી છે ...