Muhabbat krni h to kitabo se kro... bewfai bhi hui to kabil bna k chhodegi...#D

आंखों में नींद तो है मगर मैं सोना नहीं चाहता,,,
दिल में दर्द भी है मगर रोना नहीं चाहता,,,
अब मैं क्या कहूं अपनी चाहत में,,,
बस तुम्हारे अलावा किसी का होना नहीं चाहता...#D

Read More

तुम दूर हो मगर ऐ अहसास होता है,,,
कोई है जो दूर रहकर भी मेरे दिल के पास रहता है,,,
किसी की याद आए या न आए,,,
जब तुम्हारी याद आती है, वो लम्हा बहुत खास होता है...#D

Read More

मैं चखूं ये जाम, मुझे अच्छा नहीं लगता,,,
हर मुस्कुराता चहरा अब सच्चा नहीं लगता,,,
ये जो लड़ाते फिरते है, वाली-सी उम्र में इश्क़ की बाजियां आजकल,,,
इनकी हरकतों से तो दूध पीता बच्चा भी अब बच्चा नहीं लगता...#D

Read More

नहीं रहता कभी कोई शख़्स अधूरा, किसी के बिना,,,
वक्त गुजर ही जाता है, कभी कुछ खोकर, कभी कुछ पाकर...#D

फकत हमारा ही नहीं, ये दुख है जहान का,,,
गुजर ही जाएगा, ये वक्त इंतहान का...#D

इतना सब कुछ जानने/समझने और करने के बावजूद,,,
लोग कहते है कि उनका हमसफ़र, मेरे जैसा हो...#D

हमसे हमारा हाल पूछा था, शायद उसको हमारा ख्याल आया था,,,
खुश रहते है अपनों की खुशियों में हमेशा, ये हमने उसे बताया था...#D

Read More

बस उम्मीदें छोड़ी है,,,
.
.
.
तुमसे मुहब्बत नहीं...#D

ख्वाहिशें तो आज भी
बगावत करना चाहती है,,,
मगर सीख लिया है मैंने,
हर बात को सीने में दफन करना...#D

कागज की कश्ती थी,,,
नदी का किनारा था,,,
खेलने की मस्ती थी,,,
ये दिल आवारा था,,,
कहां आ गए इस समझदारी के दलदल में,,,
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था...#D

Read More