Hey, I am on Matrubharti!

कोरा कागज ही सही
पर कलम से निकले
दिल के दर्द को
मेरी मन की
भावनाओं को
वो तुम से बेहतर
समझता है.

-Shreekant Wagh

सिर्फ प्रेम करने से ही
किसी स्त्री को
समझ नहीं सकते,
जीना भी पडता है
उसके साथ.

-Shree Wagh