करूं शब्द-शब्द मैं प्रीत की बातें, हाँ तुम मेरा आधार पिया, मैं जोगन कभी बैरागन बनती, और तुम मेरा संसार पिया।~ रूपकीबातें (Introvert Writer)

    • (13)
    • 730
    • 441
    • (34)
    • 26.3k
    • 2.8k
    • (17)
    • 12.4k
    • (19)
    • 1.8k
    • (25)
    • 3.7k
    • 1.7k
    • (11)
    • 2.3k
    • (14)
    • 1k