Hey, I am reading and writing on Matrubharti!,,

ज़िन्दगीकी बाँहों में कुछ हसीन यादे बटोरनी है।
हा तुमसे ही नाराज़गी थी आज थोडी दुर करनी है