Hey, I am on Matrubharti!

प्रेम


चाहूल प्रेमाची मनी देऊन गेलास
त्सुनामी परी मन हलवून गेलास

फुलबागेची होते मी फुलरानी
चिरेबंद पुस्तकात कोंबून गेलास

हळव्या,स्थिर मनात माझ्या
शाब्दिक वादळ उठवून गेलास

टिमटिमर्‍या काजवी भावनांना
आकाशी विलीन करुन गेलास

भाव माझ्या मनीचे किती अबोल होते
त्या मनाला हुररहुरीचा शाप देऊन गेलास



कु.प्राजक्ता

Read More

*पाऊस आणि त्या पावसातील क्षण, आठवणी खूप सुंदर असतात. पावसातील क्षणावर, आनंदावर प्राजक्ता बोकेफोडे यांची कविता तो पाऊस एन्जॉय करत होता*
💁🏻‍♂️ *पाहा*
https://youtu.be/mCP5SpM8Rw0

Read More
epost thumb

तो आज की मेरी कविता आजकल कि हालातों से ही हैं।
तो शुरूआत करते हैं इन दिनों किसी की जिंदगी घर पर तो किसी कि अस्पताल मैं गुजर रही होगीं,
चौराहे पर खड़ा होगा वर्दी पहनकर निगाहें उसकी आने जाने वालों पर पड़ी होगीं।
तंग हैं कुछ वहीं चेहरे वहीं दिवारें देखकर तो किसी कि कब्र बिना फूलों कि दबी हुई हैं,
लाजवाब पकवान पक रहें हैं रसोईं मैं, तो किसी कि थाली बस पाणी से ही भरी होगी।
सुहाना मौसम आसमान से पौछाद बूँदो की तो किसान केलिए बारिष उसकी आँखों से निकली होगी कोई जान की किमत बिना समझें इधर उधर घूम रहें हैं।
तो किसी ने अपनी पूरी जान दवाई ढूँढने में लगाई होगी।
मुक्दत का खेल मानों या वक्त ही कों मानों ये पल ये समय किसी के लिए # old memories तो किसी के लिए बस तबाही होगी।

🖋 prajakta

Read More

🌸 नात म्हणे काय बात🌸

एक आजी एक नात
जगा वेगळ हे नातं
मन आजीच नातीत
वय विसरुन जातं ।।धृ।।

आली आली माझी नात
आजी म्हणे अंगणात
स्वर वाजवित पायी
छुमछुम पैंजनात ।।१।।

आजी आजीच्या स्वरास
आली निनादत नात
विसरली आजी भान
आनंदाच्या त्या नादात ।।२।।

चला खेळ नवे खेळू
पण कोणात कोणात
एक आजी एक नात
सांगा आणखी कोणात ।।३।।

नको सांगूस कोणास
गोष्ट सांगू या कानात
गोष्ट आजीची आजीची
नात म्हणे काय बात ।।४।।

...prajakta..

Read More

क्यों पीड़ित है ये गरीब जो
मतलब भी नहीं जानते Corena का,
क्यों कैद होना पड़ता है इन रोजगारों को ,शब्द नहीं कह पाहते ये lock down का,
दो वक़्त की रोटी के लिए मोहताज है आज ये जो कैसे कह पाएंगे Quarantine का, हमेशा ही जद्दोजहद से मिला हैं जिन्हें राशन
कैसे पालन कर पाएंगे वो social distancing का जो आज तक जान नहीं पाए अपनी गरिबी का कारण
कैसे भुजा पाएंगे मतलब covid _19का, जब भी करता है संसार सामनाविपदा का तो, क्यों गरीब ही पहला शिकार होता हैं Exploitation का?
🖋 prajakta..

Read More