Hey, I am on Matrubharti!

दिल को संवारती है।
शीशे में ढालती है।।
सच्ची जो ही महोब्बत।
दुनिया से हारती है।।
~© निमिषा~

अपनी नज़र से देखो एक बार।
नज़रों को नज़राना मिल जाएगा ।।
दिल के सूने आंगन में फिर से।
खुशियों का पैमाना भर जायेगा।।
~✍️निमिषा~

Read More

जीवन जीना है तो इस दुनिया में।
बहुत कुछ सहना पड़ता है।।
अरमानों की मौत कभी तो।
अपनों से ही दूरी ज्यादा।।
सांसों के चलने का भुगतान ।
सभी को करना पड़ता है।।
जीवन जीना है तो इस दुनिया में।
बहुत कुछ सहना पड़ता है।।
~©निमिषा~

Read More

Shiva! the Mahadev.
Rythem of life Shiva.
End of life Shiva.
Light of universe Shiva.
perfect Yogi Shiva.
Shiva! Shiva! Shiva!
Every soul Shiva.
~✍️ nimisha~

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

शिवरात्रि को सभी लोगों को हार्दिक शुभकामनाएं।
आप सभी के लिए शिवरात्रि शुभ हो।।

आज शिवरात्रि है
महाकाल की रात्रि है।।
शिव शक्ति के मिलन की।
पावन पुनीत रात्रि है।
दुःख हरने सुख देने वाले।
औघड़ भोले भंडारी हैं।।
कालों के हैं महाकाल ।
करुणा के जो सागर हैं।।
विष को पीने वाले मेरे।
शिव शंकर की रात्रि है।।
आज शिवरात्रि है।
~✍️©निमिषा~

Read More

स्वयं को बिखरने से बचाना है तो नारियल बनो मोम नहीं।
~✍️ निमिषा~

ढूंढने निकली थी एक बुरा इंसान "निमिषा"।
शरीफों की जमात बड़ी लंबी निकली।।
~✍️© निमिषा~

ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा भी कितना अजीब होता है।
वही दूर जाता है जो दिल के करीब होता है।।
~✍️©निमिषा~