Editographar,writer, Nawab farhan khan crezy boy

Na jane kya kami hai mujhme
Na jane kya khoobi hai usme,
wo mujhe yaad nhi karti
Main use bhool nhi pata

Nawab Farhan khan

Jab tak bika na tha to koi puchta na tha
tumne khareed kar mujhe anmol kar diya.

#Nawab

उसने होठो से छू कर दरिया का पानी गुलाबी कर दिया,
हमारी तो बात और थी, उसने मछलियों को भी शराबी कर दिया।
#Shayri #dil #Nawab Farhan Khan

Read More

कोई मिले इस तरह कि फिर जुदा न हो,
समझे मेरा मिजाज और कभी नाराज़ न हो,
अपने एहसास से बाँट ले सारी तन्हाई मेरी,
इतनी मोहाब्बत दे जो पहले किसी ने किसी की न हो।

Read More

Umar bhar so na sakenge
kisi ke ho na sakenge
kisi begane ke khatir
tumne apno ko bhula diya

aap daulat ke tarāzū meñ diloñ ko tauleñ

ham mohabbat se mohabbat kā sila dete haiñ

#Nawab

किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे
पर ऐतबार भी इतना करना की शक न रहे
वफ़ा इतना करना की बेवफाई न रहे
और दुवा इतना करना की जुदाई न रहे

Read More