Hey, I am on Matrubharti!

*कृष्ण ने बहुत अच्छी बात कही है ,,*
*" ना हार चाहिए "*
*" ना जीत चाहिए "*
*जीवन मे अच्छी सफलता के लिए परिवार और कुछ मित्र का साथ चाहिऐ .. ।* सुप्रभात
-------------------------------
?Good-Morning?-------------------------------

Read More

?????????? *अचानक एक मोड़ पर सुख और दुःख की मुलाकात हो गई*
*?दुःख ने सुख से कहा?*
*तुम कितने भाग्यशाली हो*
*जो लोग तुम्हें पाने की कोशिश में लगे *रहते हैं....?*
*?सुख ने मुस्कराते हुए कहा?*
*भाग्यशाली मैं नहीं तुम हो...!*
*दुःख ने हैरानी से पूछा : - "वो कैसे*
*सुख ने बड़ी ईमानदारी से जबाब दिया ?*
*वो ऐसे कि तुम्हें पाकर लोग अपनों को याद करते हैं ?*
*लेकिन मुझे पाकर सब अपनों को भूल जाते हैं*

*???आपका दिन शुभ हो???*
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

?????????

"पहली नमस्ते *परमात्मा* को,
जिन्होंने हमें बनाया है".

"दूसरी नमस्ते *माता पिता* को,
जिन्होंने हमें
अपनी गोद में खिलाया है".

"तीसरी नमस्ते *गुरुओं* को,
जिन्होंने हमको
वेद और ज्ञान सिखाया है".

"चौथी और सबसे महत्वपूर्ण नमस्ते
*"आप को"*
"जिन्होंने हमें अपने साथ
जुड़े रहने का मौका दिया है.

❗?
--------------------------------
?Good-Morning?
--------------------------------

Read More

*કોઇના પર ગુસ્સો આવે તો બોલતાં પહેલાં થોડો બ્રેક લો*

*૧.* જો એ વ્યક્તિ તમારાથી નાની હોય તો ૧ થી ૧૦ ગણો પછી બોલો.

*૨.* જો એ વ્યક્તિ તમારા જેટલી જ હોય તો ૧ થી ૩૦ ગણો પછી બોલો

*૩.* જો એ વ્યક્તિ તમારા થી મોટી હોય તો ૧ થી ૫૦ ગણો પછી બોલો

*૪.* *જો એ વ્યક્તિ તમારી "પત્ની" હોય તો ગણતરી ચાલુ જ રાખો.... બોલવાની હિંમત ના કરતા....!!*

*૫.* *જો એ વ્યક્તિ તમારા "પતિ" હોય તો સીધો એટેક કરો ....!!ગણતરી ગયી તેલ લેવા...!!!*????

Read More

*मिट्टी* का *मटका*
और
*#परिवार * की *कीमत*

सिर्फ *#बनाने * वाले को पता होती है , *#तोड़ने * वाले को नहीं।"
*#क्रोध के समय*
*#थोडा रुक जायें*
*और*
*#गलती के समय*
*थोडा #झुक जायें*
*#दुनिया की सब #समस्याये हल हो जायेगी*
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

??भक्ति जब भोजन में प्रवेश करती है,
भोजन ” प्रसाद “बन जाता है.।
             ??
भक्ति जब भूख में प्रवेश करती है,
भूख ” व्रत ” बन  जाती है.।
          ??
भक्ति जब पानी में प्रवेश करती है,
पानी ” चरणामृत ” बन जाता है.।
           ??
भक्ति जब सफर में प्रवेश करती है,
सफर ” तीर्थयात्रा ” बन जाता है.।
            ??
भक्ति जब संगीत में प्रवेश करती है,
संगीत ” कीर्तन ” बन जाता है.।
            ??
भक्ति जब घर में प्रवेश करती है,
घर ” मन्दिर ” बन जाता है.।
            ??
भक्ति जब कार्य में प्रवेश करती है,
कार्य ” कर्म ” बन जाता है.।
           ??
भक्ति जब क्रिया में प्रवेश करती है,
क्रिया “सेवा ” बन जाती है.। और…
           ??
भक्ति जब व्यक्ति में प्रवेश करती है,
व्यक्ति ” मानव ” बन जाता है..।
????? ❓|||||||||
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

*जीवन मे दो ही नियम ऱखना*

*?मित्र सुख मे हो तो*
*आमंत्रण के*
*बिना जाना नही..!!*

*?मित्र मुसीबत मे हो तो*
*आमंत्रण का*
*इन्तजार नहीं करना..!!??*

*ये सब मेरे अपनो के लिये....*
????????
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

? *घर के अंदर जी भर के रो लो* *पर दरवाज़ा हँस कर ही खोलो....!!*

*क्योंकि लोगों को यदि पता लग गया कि तुम अंदर से टूट चुके हो तो वो तुम्हें लूट लेंगे*

? *एक मंदीर के दरवाजे पर बहुत अच्छी लाइन लिखी थी ...*

*" जूते " के साथ - साथ, अपनी गलत " सोच* " *भी बाहर उतार के आइए ...??????*
? *इंसान* कभी *गलत* नहीं होता, उसका *वक़्त* गलत होता है मगर लोग इंसान को *गलत* कहेते हे जैसे के..............
*पतंग* कभी नहीं *कटती, कटता* तो *धागा* हे फिर भी लोग कहेते हे *पतंग* कटी"..!?✍?
??सुप्रभात?
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

*??प्रभातपुष्प??*

*अभिमान तब आता है*
*जब हमे लगता है हमने कुछ काम किया है,*
*और*
*सम्मान तब मिलता है जब दुनिया को लगता है, कि आप ने कुछ महत्वपूर्ण काम किया है*
*जो दूसरों को इज़्ज़त देता है*
*असल में वो खुद इज़्ज़तदार होता है*
*क्योकि*
*इंसान दूसरो को वही दे पाता है*
*जो उसके पास होता है।*
*?शुभ प्रभात?*
*?आज का दिन शुभ हो?*
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More

??? ???
*मनुष्य की चाल धन से भी बदलती*
*है और धर्म से भी बदलती है..*

*जब धन संपन्न होता है तब अकड़*
*कर चलता है, और जब धर्म संपन्न होता है,*
*तो विनम्र होकर चलता है..!!*

*जिंदगी भले छोटी देना मेरे भगवन्..*
*मगर देना ऐसी -*,
*कि सदियों तक लोगो के दिलों मे -*
*जिंदा रहूँ और हमेशा अच्छे कर्म कर सकूं..!!*

?? *सुप्रभात*??
-------------------------------
?Good-Morning?
-------------------------------

Read More