Hey, I am on Matrubharti!

एक लम्हे कि जिद ने सदियों को रुलाया था
हम भी जिद्दी थे उसको दिल में बसाया था

एक रहम किया था उस सितामगर ने
पलट कर वो कभी वापस नहीं आया था

उसे अपने हुस्न पे गुरूर था हमें इश्क पे
इश्क रह गया ढल गया जो हुस्ने सरापा था

दिल की दीवारें इतनी भी नाजुक न थी
यक़ीनन अश्को ने बुनियाद को हिलाया था

अश्कों को पी कर दिल को समझाते रहे
हमारी बे कसी का बस यही नजारा था

निगाहों से निगाहें मिला कर तो देख लेते
केशव आज भी उन्हीं गलियों में बैठा था

Read More

बड़ा इत्मीनान चाहिए साहब इश्क में विखरने के लिए
कतरा कतरा शबनम सा महसूस करिए सूखने के लिए

रोता मन व दिल दोनों है एक लम्हे के गुजर जाने पर
यकीनन यही मंजर है इश्क की उम्र याद करने के लिए

दिल यू ही नहीं टूट जाता किसी दिलवाले दीवाने का
खुदा से भी छूट जाती है कुछ लकीरें लिखने के लिए

देखो आज ये रात चांद के संग अपने शबाब पर है
कल फिर यही चिराग़ होंगे तेरे साथ जलने के लिए

क्या कुछ बाकी है जो कुछ खो कर पाना चाहता हूं
केशव तो लिखता है बस किसी को भूलने के लिए

Read More

हमने ख्यालों में ही सारा जहां बसाया है
हकीकत में यहां कहा कुछ पाया है

ग़मो का एक पहाड़ सा बना है सीने में
दिल में वस्ल का एक दरिया प्यासा है

मुद्दत्तो याद किया उसे भुलाने के लिए
एक दिन में कहा जिंदगी ऐसी बनाया है

इश्क़ की राह में हम अकेले कहा थे
एक गुमशुदा का साथ मेरा हमसाया है

हमारा इश्क इश्क ए आम कहां था
केशव ने मेयार ए हुनर में जताया है

इश्क में कितने दीवाने आए और चले गए
केशव ने खून को धूल में मिलाया है

यू आसा से कहा मिलता है इश्क केशव
दीवानगी है तो आकाश में दर बनाया है

Read More

एक इल्तिज़ा का हक हमारा भी था
पता नही कब वो दायरे से बाहर निकल गया

चलो खरीद लेते है कोई सस्ती सी बीमारी
चारागर तो औकात के बाहर निकल गया

Read More

हम उलझे हुए पर खुश थे अपने आप में ही
जाने क्या हुआ उनको अब जाके याद आए हम

अगर तुम दिल तोड़ कर रह सको तो दिल तोड़ देना
ये टुकड़े तुम्हारे किसी काम के हो तो दिल तोड़ देना

हमारे रिश्ते को दुनिया कभी ना कभी कबूल करेगी
अगर तुम चाहो तो मानो ना चाहो तो दिल तोड़ देना

वस्ल के वादे पर मै कायम हूं तुम भी बदल न जाना
निगाहें इंतज़ार करेंगी जो न मानो तो दिल तोड़ देना

दिल बहुत सस्ता है कीमत तेरी आंखो में डूबना
जो मंजूर हो तुझे तो आना न हो तो दिल तोड़ देना

दिल ए केशव पे तुम्हे यकीन हो तो रह जाओ
तुम्हारी तलाश में कोई और हो तो दिल तोड़ देना


#किंमत

Read More

मेरे आंसुओं की कीमत क्या कोई लगाएगा
एक एक आंसुओं में समुंदर की गहराई हुई
#किंमत

जिंदगी
बुझा बुझा सा चेहरा थमी थमी सी जिंदगी
वक्त से हारा हर कोई वक्त की मारी जिंदगी

आंसुयो में एक इबादत थी जो बह रहा था
आंसू जो सूख गए तो शूल चुभाती जिंदगी

वक्त था गुजर गया कुछ ले गया कुछ दे गया
यहां सब को मिली है चलती फिरती जिंदगी

वक्त के लबों पे दफ्न हो गई सारी कहानियां
भूली बिसरी सी हुई है हमारी तुम्हारी जिंदगी

जिंदगी की आंखो में आंखे डाल कर देखा हमने
जहां जहां अंधेरा था वहीं वहीं चमकी थी जिंदगी

हालांकि उस वक्त ने अपना काम कर दिया था
तेरे मेरे बीच में एक चिराग सी जलती जिंदगी

विभिन्न प्रकार के वक्त को गुजार दिया केशव ने
तब माथे की सिकन से चेहरे पे चमकती जिंदगी

Read More

यूं ही इश्क के किस्से को सारे बाज़ार आम कर दिया
लगता है ज़माने की नजर में प्यार का कोई मोल नहीं

#मूल्य

आज हमें अपनी कमजोर नजरो पर खुशफहमी हो रही है
जमाने की शक भरी निगाहों से हमारी मुलाकात अधूरी रही

#मुलाक़ात

Read More