दर्द नहीं लिखती ना गम पीती हुं, मैं मरीज नहीं जो गजल बिकती हुँ , अनपढ़ हूं मुझ में ही कहीं इसलिए लिखती हुँ ।

    • (16)
    • 720
    • 571
    • (16)
    • 453
    • (13)
    • 979