Rest of Life (Stories Part 3) by किशनलाल शर्मा in Hindi Social Stories PDF

शेष जीवन (कहानियां पार्ट 3)

by किशनलाल शर्मा Matrubharti Verified in Hindi Social Stories

2--बदला"साहब है/""नही।गाज़ियाबाद गए है।रात तक लौट आएंगे।कोई काम है?"रचना ने राम दीन से पूछा था।"नही।काम तो कुछ भी नही है।साहब के नाम एक लिफाफा आया था।साहब छुट्टी पर है।मैने सोचा शायद जरूर हो इसलिए देने चला आया।""लाओ मुझे दे ...Read More


-->