mere akeli raat by नाथूराम जाट in Hindi Motivational Stories PDF

मेरी अकेली रात

by नाथूराम जाट in Hindi Motivational Stories

बस बस बस बस बस बस करो अब थक गईं हूँ ।मैं तुम से प्यार की उम्मीद रखना, अब नहीं शहा जाता की ख़ुदा कभी मेरी झोली मैं खुशियाँ डालेगा पर मैं ख़ुदा से नाराज नहीं हूँ, ख़ुदा जो ...Read More