Sanwlapan by Ramanuj Dariya in Hindi Short Stories PDF

सांवलापन

by Ramanuj Dariya in Hindi Short Stories

ऐसा नहीं कि ओ खूबसूरत नहीं थी लेकिन किसकी नज़र में थी इसका अंदाजा लगा पाना बहुत मुश्किल था शायद उसके लिए जो उसी की तरह बदसूरत हों या फिर उसके लिये जो उससे भी ज्यादा हों।हालांकि किसी की ...Read More