Last time of mother by Ashish Dalal in Hindi Short Stories PDF

मां का अंतिम समय 

by Ashish Dalal Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

‘बस। अब और नहीं होता मुझसे। परेशान हो गई हूं मैं।’ उसके अंतिम कौर मुंह में डालते ही जूठी थाली उसके सामने से उठाते हुए बड़बड़ाती वह बोली। बादल गरजने के लिए जैसे अनुकूल वातावरण तलाश रहे थे।‘हिम्मत और ...Read More