Kshanbhar by महेश रौतेला in Hindi Poems PDF

क्षणभर

by महेश रौतेला in Hindi Poems

१.बेटी से संवादतुम्हारा हँसना, तुम्हारा खिलखिलाना,तुम्हारा चलना,तुम्हारा मुड़ना , तुम्हारा नाचना ,बहुत दूर तक गुदगुदायेगा।मीठी-मीठी बातें ,समुद्र की तरह उछलना,आकाश को पकड़ना ,हवा की तरह चंचल होना,बहुत दूर तक याद आयेगा।ऊजाले की तरह मूर्त्त होना,वसंत की तरह मुस्काना,क्षितिज की ...Read More