Meri tuti futi gazale by Parmar Bhavesh આર્યમ્ in Hindi Poems PDF

मेरी तूटी फूटी ग़ज़लें..!

by Parmar Bhavesh આર્યમ્ Matrubharti Verified in Hindi Poems

1. प्यार कब था..!आप के लिए प्यारके अलावा ही! सब था !हमारे लिए प्यारके अलावा कुछ कब था ?खुदा भी तुम और भगवान भी तुम ही थे !तुमको ही माना, ऊपर वाला कहाँ रब था ?क्या बताऊँ तुमको तुम ...Read More