CHALOGE KYA FARIDABAD by Ajay Amitabh Suman in Hindi Poems PDF

चलोगे क्या फरीदाबाद?

by Ajay Amitabh Suman Matrubharti Verified in Hindi Poems

(१) चलोगे क्या फरीदाबाद? रिक्शेवालेसेलालापूछा,चलोगेक्या फरीदाबाद?उसनेकहाझटसेउठकर,हाँतैयारहूँभाई साब. हाँतैयारहूँभाई साब कि,लाए क्या अपनेसाथ हैं?तोंदउठाकरलालाबोला,हमतोखालीहाथ हैं.हमतोखालीहाथहैं कि,साथमेरेघरवालीहै .औरदेखलोपीछेभैया,वो मोटी है जोसालीहै . मोटीवोमेरीसालीकि,लोगे क्या तुमकिराया?देखकेहाथी लाला,लाली,रिक्शाभीचकराया.रिक्शावालाबोलापहले,देखूँअपनीताकत .दुबलापतलाचिरकूटमैं,औरतुमतीनों हीं आफत . औरतुमतीनों हींआफत,पहले बैठोतोरिक्शेपर,जोरलगाकेदेखूंक्या ,रिक्शाचलपातातेरेघर?चलपातारिक्शाघरक्या ,जबउसनेजोरलगाया .कमरटूनटूनीवजनीथी,रिक्शा चरचरचर्राया . रिक्शाचरमरचर्राया,कि ...Read More