Hey, I am on Matrubharti! आप सब का स्नेह ही हमारी अमूल्य धरोहर है ।मेरी स्वरचित रचनाओं के पात्र ,समाज में कहीं भी हमारे आस-पास ही मिल सकते हैं।सामाजिक एवं बच्चों के लिए लिखने का प्रयास किया है ।मेरा उद्देश्य समाज के किसी व्यक्ति को दुख पहुँचाने का नहीं है।

सुगढ़ औरत,
नारी वह है
जो गृह कलह,
मानसिक पीढ़ा,
शारीरिक प्रताड़नाएं,
आंतरिक द्वंद्व और
सामाजिक उपेक्षाएँ
सह कर भी आने
वाले के लिए
मुस्करा कर
दरवाज़ा
खोलती
है..

#WomensDay

Read More

🌹पुलवामा के शहीदों को विनम्र श्रद्धांजलि 🌹

हम क्या जाने क्या होता है वेलेण्टाइन डे,
मॉं ने दुलार किया हो गया वेलेण्टाइन डे।

पापा ने जेब भरी हो गया वेलेण्टाइन डे,
भैया ने सुरक्षा दी हो गया वेलेण्टाइन डे।

दीदी ने मनुहार की हो गया वेलेण्टाइन डे,
बूआ उपहार लाईं हो गया वेलेण्टाइन डे ।

भैया बॉर्डर पर गये भाभी ने प्यार से भेजा,
भैया ने ऑंखों से लौटने का वायदा किया।

लौट कर पुलवामा से शहीद होकर लौटे,
मॉं ने ,भाभी ने ,पापा ने कलेजे से लगाया।

हम बच्चे कुछ न कर पाए पुलवामा के शहीदों
को अश्रुपूरित ऑंखों ने विनम्र श्रद्धांजलि दी।

हम क्या जाने क्या होता है वेलेण्टाइन डे,
मॉं पापा की सेवा की तो हो गया वेलेण्टाइन डे ।

आशा सारस्वत

#ValentineDay

Read More

यदि ज़िंदगी है
तो
कठिनाई में
तूफ़ान में
पत्थर में
भी
ज़िंदगी है..

#LoveGuru
तुम भी अंजान हो प्रिये,
मै भी तो अंजान …

न तुम जानती हो प्रिये,
न मैं ही जानता …

आओ देखें कोई ग़र प्रिये,
मिल जाये हमें LoveGuru..

ज़िंदगी कट जाये प्रिये,
बहुत ही आराम से…
आशा सारस्वत

Read More

हमने सोच लिया,
सब कुछ मिलेगा ।
इच्छानुसार मिलना,
जन्मसिद्ध अधिकार है ।
सिर्फ़ सोचने से कहॉं ,
मिलते हैं तमन्नाओं के शहर ।
चलना,दौड़ना भी ज़रूरी है ,
मंज़िल पाने के लिए …
आशा सारस्वत

Read More

"दुआ में ताक़त" by Asha Saraswat read free on Matrubharti
https://www.matrubharti.com/book/19923422/power-in-prayer

दर्द एक संकेत है,
कि आप,हम ज़िंदा हैं।

समस्या एक संकेत है ,
कि आप,हम मज़बूत हैं।

मित्र,परिवार एक संकेत हैं,
कि आप,हम अकेले नहीं हैं।
आशा सारस्वत

Read More

"विवेक" by Asha Saraswat read free on Matrubharti
https://www.matrubharti.com/book/19923283/discretion

#RepublicDay गणतंत्र दिवस

आन देश की, शान देश की
इस देश की हम संतान हैं ।

तीन रंगों से रंगा है तिरंगा,
अपनी तो यह पहिचान है ।

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

आशा सारस्वत
26-01-2022

Read More

"कर्तव्य - 15 - अंतिम भाग" by Asha Saraswat read free on Matrubharti
https://www.matrubharti.com/book/19922984/kartvya-15-last-part