My Name is Arjuna Bunty, I’ve written some poems, short stories, Novels, Stories, Hindi quotes, Hindi stories, Hindi poems, Hindi personality development articles, Hindi essays, Hindi articles, Hindi songs, memoirs, satire, ghazals. And much more to be made available in Hindi property.

ज़िंदगी को जिस दिन भी समझ जाओगे
जिंदगी में तुम भी संभल जाओगे।।
Arjuna Bunty

हर सुबह जागता हूं
नई सुबह की तालाश में
खूब पढ़ा है मैंने तो
अपने होशो हवाश में
की एक दिन मेरा भी आयेगा
मर मर कर काटा है हर दिन
मां तेरा बेटा भी घर में
एक दिन अच्छे दिन लाएगा।।

पर क्या करूं मां
यहां अनपढ़ लोगों का
चलता शासन है
गधों के कंधों पर
देश का आसन है
गुणी विद्वान यहां
करते पहरेदारी है
अनपढ़ और गंवार इस
देश में सत्ताधारी है ।

बेरोज़गारी आज बहुत
भयानक बीमारी है
डिग्री वाले बेच रहे
पापड़, समोसे, लिट्टी चोखा
कचरी, भजिया, तरकारी है
रिश्वत देकर भगजोगनी जी
कर रहे नौकरी सरकारी है।।

मै पढ़ा लिखा था सपने लेकर
क्या करूं इस डिग्री का
बेरोज़गारी ने इस तरह जलिल किया
आत्मनिर्भर भारत ने एक और
शिष्य को लील लिया
अलविदा तुझे है मेरी मां
अब चलने की तैयारी है
मेरे हम उम्र वालों
आज मेरी कल तेरी बारी है।।

सुनो जरा मेरे मित्रों
आगाज़ मै कर देता हूं
इन बहरे कर्मठ नेताओं को
लाश सबूत में दे देना
फिर चाहे जो जो करना हो
एक शंखनाद करना होगा
इन बहरे सत्ताधीशों को
एक कांग्रेस जरना होगा
तब हम सब को मिलकर
बेरोज़गारी से लड़ना होगा।

धन्यवाद।।
Arjuna Bunty

Read More

मेरी खुशियों की सौगात
कैसे छीनी इन लोगों ने
मेरी अस्मत लूटने वालों के
क्या हालात जानना चाहते हो?
किस किस ने दिया उनका साथ
क्या वो बात जानना चाहते हो?
फिर से तमाशा बनूं समाज का
क्या हुआ उस अंधेरी रात
क्या वो बात जानना चाहते हो?
अकेली हूं तो क्या
मेरा विश्वाश पाना चाहते हो
क्या मेरा साथ पाना चाहते हो?
क्या जानना चाहते हो?
कैसा था उनका अट्टहास
क्या वो बात जानना चाहते हो ?
क्या जानना चाहते हो?
क्या जानना चाहते हो?......
Arjuna Bunty

Read More

आप की बातें बहुत ही प्यारी है
लगता है दिल पर बोझ हो कोई
इंसानों को परखने में किसी का जोड़ हो कोई
जरूरी तो नहीं हर इंसान आप जैसा ही हो
जो जैसा है उसकी वहीं खासियत हो कोई
बदल जाए तो समझ लेना वो और हो कोई
खाली दिल में बसाने को मजबूर न हो कोई
यह भी जरूरी है एक सच्चा इश्क़ जरूर हो कोई
मोहब्बत करने वाला हो और उसका न जोड़ हो कोई।।
#Arjuna Bunty

Read More

प्रभाव तो बहुत पड़ा है तुम्हारे व्यवहार का मेरे दिल पर
लेकिन असर पड़ा है आंशिक
जरा ये तो बताओ कैसे बदलोगे तुम अपनी और समाज की सोच वो #मानसिक ।।
#मानसिक
#Arjuna Bunty

Read More

एसएमएस, वॉट्सएप, विडियोकॉल
के जमाने में
वो ख़त का जमाना
बहुत याद आया
खादी के कपड़ों में घर घर जाने वाला
#पोस्टमैन वो पुराना याद आया।
यादें जो हमको फुर्सत का पल
याद दिलाती है
इन यादों को फिर से बुनते है
यादों में खुद को ढूंढते है
वो पुराने जमाने में खो जाते है
दादा, दादी, के गाव जाते है
खेलते है और झूमते हैं
खुली हवा में सांस लें
अपनों के संग साथ रहे
वो पुरानी बातें बहुत याद आते है
जी करता है
चलों फिर से बच्चे बन जाते है।
चलो फिर से बच्चे बन जाते है।।

#पोस्टमैन
#Arjuna Bunty

Read More

तुझे देखूं और देखना चाहूं
दिल की बातें कहने को
#पोस्टमैन की तरह तेरे घर आऊं
इश्क़ का इजहार करूं
और तेरे पापा से मार खाऊ
इतना तो आवारा नहीं
सुनो मुझे प्यार है
पर मै क्या करूं
मै कुंवारा तो नहीं।
🤗😂😂😀😀😀
#पोस्टमैन
#Arjuna Bunty

पहली बार हास्य व्यंग की रचना की है सुझाव अवश्य दें।।

Read More

जीवन में ऊंचाईयों पर जाना आसान कहां होता है
एक #विमान जैसा इरादा चाहिए आकाश चूमने को।।
#विमान
#Arjuna Bunty

प्यार, मोहब्बत, इश्क़, प्रेम सबसे पहले काम आना चाहिए
जंग हो या इश्क़ हो वक़्त गर मांगता हो हिंसा या #अहिंसा अपनाना चाहिए।
#अहिंसा
#Arjuna Bunty

Read More

Arjuna Bunty लिखित कहानी "इंसान और उसकी भावनाएं" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19897573/man-and-his-feelings