Dont message

तेरे दिदार की आश भी देख जिंदगी की तरह कम हो रही,
इंतजार इतना बढ गया की आंखो की रोशनी भी अब जा रही ।

एक ही हसरत थी दिल में कि तु भी कभी याद करेगा पर कब दफन हो गइ पता ही न चला ।

कर लूं कितना भी मशरूफ खुदको, तेरी याद है जो कभी तन्हा होने नही देती ।

एक तेरी चाह की चाहत में,
उम्रभर इंतजार कर बैठे ।

जीवनभर का साथ तो नहीं माँगा था तुजसे, बस दो कदम साथ चलते तो जिंदगी जीने लायक होती यूं बसर न करनी पडती ।

सोचती हूं देख लूं तुजसे रुठकर !
गर तुने मना लिया तो जी उठेंगे वरना तेरे बिन जीना तो शीख ही लेंगे ।

आकर देख जरा ! हर खुशी दरवाजे पे खडी है और हमें तेरी कमी खल रही है ।
मुस्कुराये तो कैसे ? हँसी के साथ आंखे बरस पडी है ।

Read More

आश ना करो कि वो आके हाल पूछे तुम्हारा,
बिन पूछे प्यार किया है क्या हक था तुम्हारा ?

काश ! दुनियादारी में हम भी माहिर होते,
तो, खुद सके बजाये पहले हम तुजे भूले होते ।