Hindi Shayri videos by ज़ख्मी__दिल…सुलगते अल्फ़ाज़ Watch Free

Published On : 14-May-2024 11:18pm

212 views

🦋...सुन ┤_★__
ए सूरज..तेरी इस,चिलचिलाती धूप से
उठती तपन' में इतनी तेज़ कहां,

जो इक मां की ममता,मां के छाया की
शीतलता को कम कर सके..❤️
╭─❀🥺⊰╯
╨────────━❥
♦❙❙➛ज़ख्मी-ऐ-ज़ुबानी•❙❙♦
╨────────━❥

0 Comments