Hindi Poem videos by Yayawargi (Divangi Joshi) Watch Free

Published On : 26-Feb-2021 08:51pm

133 views

मिले तुम्हे मुझसे बेहतर
पर शायद में मिलु ना !

गौरवर्ण हो अधिक, हो मधु सी आवाज़
रंग भी आँखों का मिले जाए नीला
पर उन आँखों में शायद प्यार दिखे ना

मिले तुम्हे मुझसे बेहतर
पर शायद में मिलु ना !

हर घर-काम में हो निपूर्ण
माँ अन्नपूर्णा स्वयं बसे हो हाथो में
पर उन अधरों के शायद स्वाद भाये ना

मिले तुम्हे मुझसे बेहतर
पर शायद में मिलु ना !

फ़र्ज़ भी जो करे सारे पुरे
उठाए सारी जिम्मेदारियां बेझिजक
पर उन सपनो को शायद अपना समजे ना

मिले तुम्हे मुझसे बेहतर
पर शायद में मिलु ना !

भले जिंदगी पर नाम जुड़े रहे
हाथो से हाथ बंधे रहे
रास्ते उसकी और मुड़े रहे
पर दिल कभी जुड़े ना
फिर भी शायद में तुम्हे मिलु ना !

-yayawargi
(Divangi joshi)

https://youtu.be/rnJxgiPBC3Q

2 Comments

Related Videos

Show More