Hindi Motivational videos by Rooh The Spiritual Power Watch Free

Published On : 13-May-2020 02:41pm

169 views

# INTRODUCING TODAY’S

HUMAN BEING

My Painful Poem...!!!

यारों आज अलग-अलग-सी हर दिल
की दास्तान मानो अनकही-सी रेह गई

आपसी मिलन के बाद भी जैसे आज
थोड़ी-सी दूरी बस मजबूरी-सी हो गई

बार बार लगातार घरकी चार दिवारों
से टकराती ऑंखें आज बेनूर-सी हो गई

हर घर 🏠 के झरोखे से सूनी राहो को
तकता हर एक पगला-सा दिल💔फिर

आज खुलीं फ़िज़ाओं में दौड़ने की ओर
टहलनेकी हसरत भी यारों दबके रहे गई

बेबसियों की ग़ुलाम जीदगीं आज ठहरे
वक़्तकी क़ैदमे बस ग़मगीन-सी हो गई

हर एक लम्हा सौ साल-सा लगता है
अपनों में ही अपने बेगाने-से लगते है

आज लगता है जैसे सालो बाद फिर
हर एक चेहरे से हंसी ग़ायब-सी हो गई

आज अपनो को ही अपनों की लाशोसे
अनकही-सी अजीब क़िल्लत-सी हो गई

छुआ-छूत ज़िन्दा लोगों से तो हम सबने
सुना था पर आज मुर्दा से भी वह हो गई

प्रभु रब ईश्वर ईसु अल्लाह क्या तेरी
मर्ज़ी है वह तो बस तूँ ही सिर्फ़ जाने हैं

हर राहों पर पैंदल चलते भूखे-प्यासे
मासूम मज़दूर को मौत निगल-सी गई

नन्हे नन्हे कदमों से कोसों का फ़ासला
तय करना प्यासे बच्चोंकी मजबूरी हो गई

पर ज़िम्मेदारियों के बोझ से हाथ धो कर
बहरी-गूँगी-अँधी सरकार चुप-सी हो गई

15 लाख जिस खाते में जमा हूएँ थे कभी
20 लाख करोड़ फ़िर जमा कर दी गई ।


✍️🥀🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🥀✍️

#Introduce

0 Comments