Hindi Shayri videos by Abhishek Sharma - Instant ABS Watch Free

Published On : 11-Feb-2020 08:42am

64 views

शीर्षक - "इश्क साजिशाना"

प्यार, इश्क, मोहब्बत
तो सदा दिल से होते हैं
दिमाग तो महज एक,
साजिशों का कारखाना है।

जहां साजिशें हैं,
अंजाम साफ है मुक्कमल
कहीं बुझी पड़ी शमा है
और कहीं जलने को मचल रहा परवाना है।

अब तो मायने बदल रहें हैं,
मोहब्बत के
नजरों में कोई और,
बाहों में कोई और,
और ख्वाबों में किसी,
और का ठिकाना है।

बदलते वक्त के साथ,
बदल रही है तजवीज़ मोहब्बत की
जहां होती थी,
कभी कोशिशें मुलाकातों की
अब तो छुटकारा पाने के लिए,
ढूंढ़ते बहाना हैं।

वो जमाने लद गए,
जब इश्क
"आशिकाना" था,
नए दौर का इश्क बेहद
"साजिशाना" है।


- अभिषेक शर्मा(Instant ABS)

0 Comments

Related Videos

Show More