Yogita Warde, Questions on 18-Feb-2019 09:56pm | Matrubharti | Questions Video

Published On : 18-Feb-2019 09:56pm
ख़ामोश है, “अल्फ़ाज़”
अब तो आँसू भी पोंछ डाले “माँ” ने..
बेटी पर जिम्मेदारियां बढ़ी..
बेटा भी बड़ा हो गया एक रात में..
सिंदूर अब भी धधक रहा आग में..
अब भी एक सवाल ज़हन में!!
जब जवान सरहद पर तिरंगे के लिए
गोली खाने को ख़ुशी ख़ुशी है, हर वक़्त तैयार..
तो क्यों ना हो उनके साथ इंसाफ़ ..
आख़िर कब तक ???

1 Comments

Manish Patel 4 month ago

single word.. Wah....